किसान आंदोलन के बीच सांकेतिक विरोध, गाज़ीपुर बॉर्डर पर पहलवानों ने लड़ी कुश्ती

आंदोलन के बीच कुश्ती प्रतियोगिता कराने वाले किसानों नेताओं ने कहा, हमने सरकार को कुश्ती दिखाई है

Updated: Jan 11, 2021, 04:45 PM IST

किसान आंदोलन के बीच सांकेतिक विरोध, गाज़ीपुर बॉर्डर पर पहलवानों ने लड़ी कुश्ती
Photo Courtesy: Jagaran

नई दिल्ली। दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसान आंदोलन के बीच गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसानों ने रविवार को एक कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन कराया। इस प्रतियोगिता में देश भर से लगभग 50 पहलवान शामिल हुए। किसान आंदोलन के बीच आयोजित की गई इस कुश्ती प्रतियोगिता को सांकेतिक विरोध के तौर पर देखा जा रहा है। 

दरअसल रविवार को गाज़ीपुर बॉर्डर पर एक कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कुल 50 महिला और पुरुष पहलवान शामिल हुए। इस प्रतियोगिता का आयोजन भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत के मार्गदर्शन में किया गया था। यूनियन राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत और किसान नेता जगतार सिंह भी दंगल के आयोजक सदस्य में शामिल थे। इस प्रतियोगिता में भारत केसरी पहलवान सन्नी जून के साथ साथ कुश्ती की दुनिया के नामचीन पहलवान शामिल हुए थे। 

प्रतियोगिता के सफल आयोजन के बाद भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा है कि 'प्रतियोगिता का आयोजन करा कर हमने सरकार को कुश्ती दिखाई है।' दरअसल इस पूरे आयोजन को सरकार के खिलाफ एक सांकेतिक विरोध के तौर पर देखा जा रहा है। किसानों ने यह ज़ाहिर करने की कोशिश की है कि कुश्ती की दुनिया भी इस आंदोलन में किसानों के समर्थन में खड़ी हुई हैं।