छग को क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग में मिला नेशनल अवॉर्ड, डिजिटल प्लेटफॉर्म पर किया है बेहतर प्रदर्शन

प्रदेश में ऑनलाइन FIR की जानकारी, आपराधिक मामलों का जल्द निपटारा, क्रिमिनल रिकॉर्ड्स अपग्रेड रखने के लिए छत्तीसगढ़ और उत्तरप्रदेश को संयुक्त रूप से मिला दूसरा स्थान, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और राज्यपाल ने भी जताई खुशी

Updated: Dec 17, 2021, 05:43 PM IST

छग को क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग में मिला नेशनल अवॉर्ड, डिजिटल प्लेटफॉर्म पर किया है बेहतर प्रदर्शन
Photo Courtesy: cg police

रायपुर। छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार अपने तीन साल का कार्यकाल पूरा होने का जश्न मना रही है। इस बीच प्रदेश को एक खुशखबरी मिली है। छत्तीसगढ़ पुलिस को क्राइम कंट्रोल के मामले में डिजिटल प्लेटफॉर्म पर बेहतर प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया है। राज्य में डिजिटल प्लेटफॉर्म पर बेहतर अपराध नियंत्रण के लिए सम्मानित किया गया है। इन अवॉर्ड्स की घोषणा राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो याने NCRB ने की है। NCRB की ओर से कहा गया है कि क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क सिस्टम और इंटर-ऑप्रेबल क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम जिसे CCTNS/ICJS  कहा जाता है, इन मामलों में छत्तीसगढ़ ने बेहतर प्रदर्शन करते हुए दूसरा स्थान प्राप्त किया है। वहीं इसी कैटेगरी में उत्तर प्रदेश को भी छत्तीसगढ़ के साथ संयुक्त रूप से सम्मानित किया गया है। इस मामले में पहला स्थान ओडिशा का जबकि तीसरा मध्यप्रदेश का है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश की इस उपलब्धि पर प्रसन्नता जाहिर की है। उन्होंने इसके बारे में एक ट्वीट करते हुए लिखा है कि एक और उपलब्धि! केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से मिले इस अवॉर्ड को सुखद सूचना बताते हुए खुशी जाहिर की है।

 

वहीं छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके ने भी प्रदेश की इस उपलब्धि पर बधाई दी है। क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क और इंटर-ऑप्रेबल क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम के तहत पुलिस और पुलिस के काम काज को डिजिटली अपग्रेड किया जाता है। FIR की ऑनलाइन जानकारी, आपराधिक मामलों का जल्द से जल्द निपटारा करना, क्रिमिनल रिकॉर्ड्स अपग्रेड रखना। साथ ही थाने में FIR दर्ज होते ही कम से कम समय में कार्रवाई करना और अपराधियों को पकड़ना जैसे कई महत्वपूर्ण पहलुओं को ध्यान में रखा जाता है।

छत्तीसगढ़ में पुलिस का अपना एक एप है, इस मोबाइल एप का नाम सीजी कॉप एप है। इसके माध्यम से एक क्लिक पर FIR, और थानो में तैनात पुलिस अधिकारियों के नंबर मिलते हैं। छत्तीसगढ़ पुलिस फरियादियों से वॉट्सऐप पर भी डिजिटल शिकायतें ले रही है। इसी में बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रदेश को पुरस्कृत किया गया है।