Ram Temple: पौराणिक कथाओं जैसा सुंदर होगा श्री राम का ननिहाल

CM Bhupesh Baghel: रायपुर के पास चंद्रखुरी स्थित प्राचीन कौशल्या मंदिर के मूल स्वरूप को बनाए रखने का जतन, परिसर के सौंदर्यीकरण की रूपरेखा तैयार

Updated: Aug 02, 2020 05:30 PM IST

Ram Temple: पौराणिक कथाओं जैसा सुंदर होगा श्री राम का ननिहाल
Ram Temple: पौराणिक कथाओं जैसा सुंदर होगा श्री राम का ननिहाल
Ram Temple: पौराणिक कथाओं जैसा सुंदर होगा श्री राम का ननिहाल

रायपुर। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का ननिहाल रायपुर के पास चंद्रखुरी में है। यहां माता कौशल्या का मंदिर है। चंद्रखुरी मंदिर के सौंदर्यीकरण और परिसर विकास का कार्य दो चरणों में कार्य पूरा किया जाएगा। मंदिर का सौंदर्यीकरण पौराणिक कथाओं के नगरों जैसा ही आकर्षक होगा। चंद्रखुरी स्थित प्राचीन कौशल्या मंदिर के मूल स्वरूप को बनाए रखते हुए, पूरे परिसर के सौंदर्यीकरण की रूपरेखा तैयार कर ली गई है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की महत्वाकांक्षी राम वन गमन पथ विकास परियोजना में शामिल चंदखुरी में यह निर्माण कार्य 15 करोड़ 75 लाख रुपए की लागत से किया जाएगा। इसकी जानकारी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट के जरिए दी है।

पौराणिक कथाओं की तरह मंदिर परिसर का डिजाइन तैयार

चंद्रखुरी के बारे में पौराणिक कथाओं से अनुरूप पूरे परिसर के वास्तु को डिजाइन किया गया है। मंदिर तक पहुंचने के लिए तालाब में नये डिजाइन का पुल बनाया जाएगा। तालाब में घाटों और चारों और परिक्रमा-पथ का निर्माण होगा। मंदिर आने वाले दर्शनार्थियों के वाहनों की पार्किंग सुविधा भी विकसित की जा रही है। इस पूरे परिसर में आकर्षक विद्युत साज-सज्जा की जाएगी।

Click  CM Bhupesh Baghel: कौशल्या जन्मभूमि पर बनेगा विशाल मंदिर

दो चरणों में होगा चंद्रखुरी मंदिर का सौंदर्यीकरण

योजना के मुताबिक चंद्रखुरी को पर्यटन-तीर्थ के रूप में विकसित किया जाना है।  इसलिए वहां स्थित प्राचीन कौशल्या माता मंदिर के सौंदर्यीकरण के साथ-साथ नागरिक सुविधाओं का विकास भी किया जाएगा। तालाब का सौंदर्यीकरण करते हुए के मध्य में स्थित मंदिर-टापू को और भी आकर्षक और सुव्यवस्थित किया जाएगा। चंद्रखुरी में मंदिर के सौंदर्यीकरण और परिसर विकास का कार्य दो चरणों में कार्य पूरा किया जाएगा। पहले चरण में 6 करोड़ 70 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। वहीं दूसरे चरण में 9 करोड़ 8 लाख रुपए खर्च होंगे। 

29 जुलाई को मुख्यमंत्री ने की थी पूजा अर्चना

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 29 जुलाई को अपनी धर्मपत्नी मुक्तेश्वरी बघेल और परिवार के सदस्यों के साथ चंद्रखुरी पहुंचकर प्राचीन मंदिर में पूजा-अर्चना की थी। इस दौरान उन्होंने मंदिर के विस्तार और परिसर के सौंदर्यीकरण के लिए तैयार परियोजना की जानकारी ली थी। गौरतलब है कि बीते 22 दिसंबर को चंद्रखुरी स्थित माता कौशल्या मंदिर के सौंदर्यीकरण के लिए भूमि-पूजन किया गया था। इसके साथ ही राम वन गमन पथ पर पड़ने वाले महत्वपूर्ण स्थलों के पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की परियोजना की भी शुरुआत कर दी गई थ