बिलासपुर में 80 लाख रुपए के गांजे के साथ आरोपी गिरफ्तार, इमरजेंसी कोरोना सर्विस की आड़ में करता था तस्करी

तखतपुर इलाके से पुलिस ने 9 क्विंटल गांजा किया जब्त, आरोपी ने सब्जियों की आड़ में गोदाम में रखा था 24 बोरा गांजा, करीब 80 लाख है कीमत

Updated: Jun 12, 2021, 02:08 PM IST

बिलासपुर में 80 लाख रुपए के गांजे के साथ आरोपी गिरफ्तार, इमरजेंसी कोरोना सर्विस की आड़ में करता था तस्करी
Photo Courtesy: Haribhoomi

बिलासपुर। जिले के तखतपुर पुलिस ने गांजे की बड़ी खेप पकड़ी है। पुलिस ने 24 बोरों में रखा 9 क्विंटल गांजा जब्त किया है। इस गांजे की कीमत करीब 80 लाख है। पुलिस ने एक गांजा तस्कर को भी गिरफ्तार किया है। आरोपी कोविड इमरजेंसी सर्विस की आड़ में गांजे की तस्करी करता था।

पहले वह सब्जी बेचने का काम करता था, सब्जियों के साथ चोरी छिपे गांजा और ड्रग्स सप्लाई करता था। बाद में उसने कोरोना आपदा को अवसर बना लिया और इमरजेंसी सर्विस की आड़ में गांजा सप्लाई करने लगा। पुलिस ने खपरी इलका स्थित सब्जी गोदाम में छिपाए गए गांजे की खेप बरामद की है।

तखतपुर पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार जब्त किए गए 24 बोरों में 9 क्विंटल गांजा मिला है। इस गांजे की की कीमत करीब 80 लाख रुपए है। आरोपी गांजा तस्कर की पहचान हरीश साहू के रूप में हुई है। आरोपी मोकपा का रहने वाला है, और गांजा की खेप उड़ीसा से पिकअप में लेकर आता था। वही सब्जियों के बीच बड़े शातिराना तरीके से गांजा छिपाकर लाता था और चोरी छिपे बेचता था।

कुछ महीनों से वह एक निजी अस्पताल से जुड़ गया था। और कार में छिपाकर गांजे की तस्करी करता था। पुलिस का कहना है कि वह बिलासपुर के आसपास के अन्य जिलों में भी गांजा सप्लाई करता था। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है, पूछताझ जारी है। दरअसल छत्तीसगढ़ में पिछले दिनों कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से लॉकडाउन था, लेकिन इस दौरान केवल इमरजेंसी सर्विसेज को छूट मिली थी। इसी का फायदा उठाकर आरोपी गांजा तस्करी करता था।