कनाडा सरकार का ऐतिहासिक कदम, अप्रैल को घोषित किया दलित इतिहास माह

ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत की नई डेमोक्रेटिक पार्टी सरकार ने अप्रैल को 'दलित इतिहास माह' के रूप में मनाने का फैसला किया है

Updated: Apr 03, 2022, 09:20 AM IST

कनाडा सरकार का ऐतिहासिक कदम, अप्रैल को घोषित किया दलित इतिहास माह
Photo Courtesy: India Today

ओटावा। कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत में न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी की सरकार ने एक ऐतिहासिक कदम उठाया है। सरकार ने यहां अप्रैल को दलित इतिहास माह के रूप में मान्यता दी ऑफ। अब हर साल यह माह दलित इतिहास माह के रूप में बनाया जाएगा।

दरअसल, दलितों के मसीहा बाबा साहब आंबेडकर का जन्म दिवस अप्रैल में ही आता है। दुनियाभर में उनके अनुयायी इसे श्रद्धापूर्वक मनाते रहे हैं। भारत के संविधान निर्माता होने के साथ ही वे विश्वभर में दलितों के प्रतिक के रूप में याद किए जाते हैं। ब्रिटिश कोलंबिया सरकार ने कहा है कि वह इस माह को दुनिया भर में भेदभाव, नस्लवाद, रंगभेद के खिलाफ संघर्ष करने वाले नेताओं की याद में मनाएगी। 

यह भी पढ़ें: 100 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ भारतीय उद्योगपति गौतम अडानी बने एशिया के सबसे अमीर शख्स

दलित इतिहास माह के दौरान न्याय व सामाजिक समानता लाने में अहम भूमिका निभाने वाले दलित नेताओं के योगदान का याद किया जाएगा। कनाडाई सरकार ने इस संबंध में कहा कि, 'अप्रैल दलित समुदायों के लिए एक महत्वपूर्ण महीना है. इसमें डॉ भीम राव अंबेडकर, ज्योतिराव फुले, मंगू राम मुगोवालिया और संत राम उदासी जैसी जातियों के आधार पर प्रणालीगत भेद-भाव के खिलाफ आंदोलन में सक्रिय रहे दलित नेताओं और समाज सुधारकों की जन्म और मृत्यु वर्षगांठ शामिल है।

ब्रिटिश कोलंबिया सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि 14 अप्रैल डॉ भीम राव आंबेडकर Equality डे के रूप में मनाया जाएगा।