तालिबानी आतंकियों के समर्थन में खुलकर सामने आया पाकिस्तान, इमरान बोले, उन्होंने गुलामी की बेड़ियां तोड़ी है

एक बार फिर सामने आए पाकिस्तान के नापाक मंसूबे, तालिबानी आतंकियों की क्रूरता को जायज ठहराने का प्रयास, इमरान खान ने गुलामी की जंजीर तोड़ने से की तुलना

Updated: Aug 16, 2021, 06:40 PM IST

तालिबानी आतंकियों के समर्थन में खुलकर सामने आया पाकिस्तान, इमरान बोले, उन्होंने गुलामी की बेड़ियां तोड़ी है
Photo Courtesy : AFP

इस्लामाबाद। आतंकियों के इशारों पर नाचने वाली पाकिस्तान सरकार के नापाक मंसूबे एक बार फिर से सामने आए हैं। पाकिस्तान ने क्रूर तालिबानी आतंकियों का खुला समर्थन किया है। पड़ोसी मुल्क के प्रधानमंत्री इमरान खान ने तालिबानी आतंकियों को स्वतंत्रता सेनानी करार देते हुए कहा है कि उन्होंने अफगानिस्तान को गुलामी की बेड़ियों से आजाद करवाया है।

राजधानी इस्लामाबाद में सिंगल नेशनल करीकुलम  की लॉन्चिंग के मौके पर इमरान खान ने कहा, 'आप दूसरी संस्कृति को अपनाते हैं और मनोवैज्ञानिक रूप से अधीन हो जाते हैं। जब ऐसा होता है तो याद रखें, यह वास्तविक गुलामी से भी बदतर है। सांस्कृतिक दासता की जंजीरों को बाहर फेंकना कठिन है। अफगानिस्तान में जो कुछ फिलहाल हो रहा है, उन्होंने गुलामी की बेड़ियों को तोड़ दिया है।' 

इमरान खान ने कट्टरपंथी सिस्टम से चलने वाले क्रूर तालिबानी आतंकियों का समर्थन ऐसे समय में किया है जब राजधानी काबुल समेत पूरे देश पर बंदूक के दम पर उन्होंने कब्जा कर लिया है। इतना ही नहीं काबुल में घुसते ही उन्होंने वहां की महिलाओं को निशाना बनाना शुरू कर दिया है। राजधानी में तालिबानी लड़ाके जमकर लूट पाट कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: तालिबानी हुकूमत: बिना हिजाब पहने एयरपोर्ट के पास पहुंची महिलाओं को मारी गोली, बदहवास भागे जा रहे हैं लोग

काबुल में आजादी की अपनी पहली सुबह मना रहे तालिबान ने पूरे देश को सफेद तालिबानी झंडे से पाट दिया है। वे किसी भी बालिग अथवा विधवा महिलाओं को उठा ले जा रहे हैं। इधर राजधानी काबुल में अफरातफरी का माहौल है और लोग बेतहाशा भागे जा रहे हैं। देश छोड़ने की जद्दोजहद में आज दर्जनों लोगों की मौत भी हो चुकी है, फिर भी काबुल एयरपोर्ट पर हजारों की संख्या में लोग आतंकियों की क्रूरता के दहशत से भाग कर पहुंचे हुए हैं। वे यहां इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि कोई भी विमान उन्हें देश के बाहर छोड़ दे ताकि वे इन आतंकियों के हत्थे चढ़ने से बच सकें।