MP में कुपोषण से पांच सालों में 199 बच्चों की हुई मौत, कांग्रेस ने CM से मांगा 17 सालों के राज का हिसाब

बीते आठ महीने में प्रदेश में 31 हजार से ज्यादा बच्चे हुए कुपोषण के शिकार, सबसे ज्यादा सात बच्चों की सागर में हुई मौत, राजधानी भोपाल में दो, जबकि आर्थिक राजधानी इंदौर में तीन बच्चों की हुई मौत

Updated: Sep 07, 2021, 10:41 AM IST

MP में कुपोषण से पांच सालों में 199 बच्चों की हुई मौत, कांग्रेस ने CM से मांगा 17 सालों के राज का हिसाब
प्रतिकात्मक तस्वीर

भोपाल। मध्य प्रदेश में कुपोषण का कहर जारी है। प्रदेश में बीते पांच सालों में कुपोषण से कम से कम 199 बच्चों की मौत हुई है। अकेले AIIMS भोपाल में 49 बच्चों की कुपोषण के कारण जान गई है। राजधानी में कम से कम 50 बच्चों की मौत कुपोषण के कारण हुई है। यह खुलासा नेशनल रिहैब्लिटेशन सेंटर(NRC) की रिपोर्ट में हुआ है। रिपोर्ट के सामने आने के बाद कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर हमला बोलते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उनके 17 सालों के राज का हिसाब मांगा है।

रिपोर्ट के मुताबिक पिछले पांच सालों में प्रदेश के विभिन्न जिलों में संचालित न्यूट्रीशन रिहैब्लिटेशन सेंटर्स में 2 लाख 90 हजार से कुपोषित बच्चे भर्ती हुए। प्रदेश के 319 रिहैब्लिटेशन सेंटर्स में दो लाख 90 हजार 882 कुपोषित बच्चे भर्ती हुए। इनमें से 199 बच्चों की इलाज के दौरान मौत हो गई। 

इस साल के पहले आठ महीनों में प्रदेश में 31 हजार 20 बच्चों में कुपोषण की पुष्टि हुई है। इनमें से अब तक 21 बच्चे दम तोड़ चुके हैं। सबसे ज्यादा 7 मौतें सागर में हुई हैं। जबकि इंदौर में तीन और भोपाल में दो बच्चों की मौत इलाज के दौरान हुई है। आंकड़ों के मुताबिक इस साल प्रतिदिन 87 बच्चे कुपोषण का शिकार हुए हैं। 

हालांकि आंकड़ों के स्तर पर स्थिति में थोड़ा सुधार हुआ है। पिछले साल औसतन कम से कम 113 बच्चे रोजाना कुपोषण का शिकार हो रहे थे। लेकिन अगस्त महीने तक 31 हजार बच्चों के कुपोषित होने का आंकड़ा चिंताजनक है। 

विधायक खरीद कर सरकार बन सकती है, लेकिन बच्चों को संतुलित आहार नहीं दिया जा सकता 

कुपोषण का आंकड़ा सामने आने के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस ने शिवराज सरकार और मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा है कि विधायक खरीद कर सरकार बना सकते हैं, लेकिन बच्चों को संतुलित आहार नहीं दे सकते।

एमपी कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ट्वीट किया है, 'कुपोषण की चपेट में मध्यप्रदेश, 8 महीने में प्रदेश में 31000 बच्चे कुपोषित, शिवराज जी,ये है आपके 17 सालों के राज का हासिल?25 विधायक ख़रीदकर सरकार बना सकते हैं, लेकिन बच्चों को संतुलित आहार नहीं दे सकते।'