उमा की शिवराज से शराबबंदी पर चर्चा के बाद, चेतावनी 'विनय न मानत जलधि जड़', बोली पत्थर नहीं अब कुछ ओर मारूंगी

करीब सवा महीने पहले मेरी और शिवराज जी की शराबबंदी को लेकर लंबी वार्ता हुई, बातचीत के परिणाम आने की प्रतीक्षा करते हुए मैं आज से जागरूकता अभियान प्रारंभ कर रही हूं, मैं मध्यप्रदेश को पंजाब की तरह उड़ता मध्य प्रदेश नहीं बनने दूंगी।

Updated: Jun 08, 2022, 11:11 AM IST

उमा की शिवराज से शराबबंदी पर चर्चा के बाद, चेतावनी 'विनय न मानत जलधि जड़', बोली पत्थर नहीं अब कुछ ओर मारूंगी

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने मध्य प्रदेश में शराब बंदी को लेकर दोबारा मोर्चा खोल दिया है।मंगलवार शाम उमा भारती आशिमा मॉल के सामने स्थित अहाते के सामने चौपाल लगा कर बैठ गई।

उमा भारती ने वहां उपस्थित लोगों से कहा कि अब पत्थर नही मारूंगी। पत्थर मारना अपराध है। अब कुछ ओर मारूंगी। इस दौरान सुश्री भारती ने टी आई आर बी शर्मा से कहा कि मैं तीन दिन बाद फिर आऊंगी, पूरी रात यहां बैठूंगी, मेरा आदमी चुपके से यहां स्टिंग करेगा। सुश्री भारती ने कहा कि तय हुआ था अहाते नहीं खोले जाएंगे लेकिन समस्या वैसी की वैसी ही है और साफ दिख रहा है कि शराब और शराबियों की संख्या बढ़ती जा रही है। सुंदरकांड की चौपाई का उदाहरण देते हुए कहा कि 'विनय ना मानत जलध जड़ गए तीन दिन बीति, बोले राम सकोप तब भय बिनु होय ना प्रीति'

इसके बाद उमा भारती ने एक के बाद एक ट्वीट कर लिखा कि करीब सवा महीने पहले मेरी और शिवराज जी की शराबबंदी को लेकर लंबी वार्ता हुई फिर दिल्ली में हमारी पार्टी संगठन के वरिष्ठतम नेतृत्व से मेरी इसी विषय पर बातचीत हुई। फिर भोपाल में हमारी पार्टी के प्रदेश मुख्यालय के अंदर मध्य प्रदेश पार्टी संगठन के वरिष्ठ प्रभारियों से भी इसी संबंध में लंबा संवाद हुआ।

 

सुश्री भारती ने लिखा कि इन तीनों मीटिंग में सबका यही कहना था कि हम सब शराब के खिलाफ हैं एवं निषिद्ध स्थानों पर शराब की दुकान नहीं होना चाहिए तथा शराब पिलाने के अहाते तो मध्य प्रदेश में कहीं नहीं होना चाहिए । इस संपूर्ण प्रसंग में लगभग डेढ़ महीना निकल चुका है, मुझे विश्वास है कि जब इन दिनों इतने महत्वपूर्ण लोगों से बातचीत हो चुकी है तो कुछ सकारात्मक परिणाम आएगा ही। बातचीत के परिणाम आने की प्रतीक्षा करते हुए मैं आज से जागरूकता अभियान प्रारंभ कर रही हूं क्योंकि जागरूकता अभियान हमारी पार्टी एवं सरकार की नीति के ही अनुसार है।

यह भी पढ़ें: नूपुर शर्मा के बचाव में उतरी धाकड़ अभिनेत्री कंगना रनौत, बोली यह अफगानिस्तान नही है

उमा भारती ने आगे लिखा कि यह अभियान तेजी पकड़े यह बहुत जरूरी है मैं इसके लिए पंजाब का उदाहरण दूंगी, पहले शराब पीने का प्रचंड दौर चला फिर एक समय ऐसा आता है कि शराब से नशे की हवस पूरी नहीं होती तो व्यक्ति दूसरे नशे करता है और फिर भरी जवानी में नष्ट हो जाता है, यही उड़ता पंजाब की कहानी है।

हम भूलवश मध्य प्रदेश को पंजाब की तरह उड़ता मध्य प्रदेश ना बना दें तथा जो विकास की राह हमें हमारे प्रधानमंत्री श्री मोदी जी ने दिखाई तथा जिस पर चलने का वायदा हमारी प्रदेश की सरकार ने किया है उसको पूरा करने में हम सब सरकार का सहयोग करें तथा अपने अभियान में तेजी लाएं। इससे पहले उमा भारती ने भेल, गोविंदपुरा में शराब बंदी विरोध प्रदर्शन करते हुए विरोध स्वरूप शराब की दुकान में पत्थर मारा था।