धार में 30 हजार रुपए की रिश्वत लेते ASI गिरफ्तार, मारपीट के केस में नाम नहीं जोड़ने के बदले लिया घूस

इंदौर लोकायुक्त ने धार जिले के पुलिस सब इंस्पेक्टर को रंगे हाथ दबोचा, दो गुटों के विवाद में फरियादी के भाई को बचाने के बदले ले रहा था रुपए, बस स्टैंड में हो रहा था रुपए का लेनदेन, लोकायुक्त को देखकर आरोपी पुलिसकर्मी ने भागने की कोशिश की

Updated: Sep 01, 2021, 05:52 PM IST

धार में 30 हजार रुपए की रिश्वत लेते ASI गिरफ्तार, मारपीट के केस में नाम नहीं जोड़ने के बदले लिया घूस
Photo Courtesy: Bhaskar

धार। बुधवार को इंदौर लोकायुक्त ने धार में एक रिश्वतखोर असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर (ASI) पर शिकंजा कसा। लोकायुक्त ने पुलिसकर्मी को 30 हजार रुपए की घूस लेते रंगे हाथों पकड़ा है। पुलिसकर्मी किशोर सिंह टांक पर आरोप है कि उसने दो लोगों के विवाद में एक पक्ष के रिश्तेदार का नाम नहीं जोड़ने के बदले फरियादी परमानन्द दय्या से रुपए की मांग की है। फरियादी धार के लाबरिया का निवासी है। आरोपी ने फरियादी को पैसे देने के लिए ग्राम संदला स्थित बस स्टैंड पर बुलाया था।

पुलिसकर्मी ने कम धाराओं में केस दर्ज करने की एवज में 30 हजार रुपए की डिमांड की थी। जिसकी शिकायत फरियादी ने इंदौर लोकायुक्त में कर दी। फरियादी की शिकायत सही पाए जाने पर लोकायुक्त ने पूरी प्लानिंग के तहत फरियादी को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि जैसे ही फरियादी से पुलिसकर्मी ने पैसे लिए वैसे ही लोकायुक्त पुलिस वहां पहुंच गई। आरोपी पुलिसकर्मी के समझते देर नहीं लगी की माजरा क्या है।

और पढ़ें: हमीदिया अस्पताल में एक्सपायर हो गए 600 रेमडेसिविर, कोरोना मरीजों के इलाज के लिए मिले थे इंजेक्शन

लोकायुक्त को देखते ही पुलिसकर्मी भागने लगा। लेकिन लोकायुक्त टीम की तत्परता से उसकी गिरफ्तारी हो गई। लोकायुक्त ने ASI के पास से तीस हजार रुपए बरामद कर लिए हैं। वहीं केमिकल में हाथ धुलाने पर पुलिसकर्मी के हाथ रंग गए। जिसके बाद लोकायुक्त ने आरोपी पुलिसकर्मी से कई घंटे तक पूछताछ की। मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई जारी है। लोकायुक्त ने पूछताछ की कार्रवाई पुलिस सर्किट हाउस सरदारपुर में की।