पुराने भोपाल से हटाया गया कर्फ्यू, कुछ इलाक़ों में धारा 144 अब भी जारी

टीला जमालपुरा, हनुमानगंज और गौतमनगर में आज लागू रहेगी धारा 144, जमीन विवाद को लेकर हिंसा भड़कने की आशंका को देखते हुए कलेक्टर ने रविवार को लगाया था कर्फ्यू

Updated: Jan 18, 2021, 10:21 AM IST

पुराने भोपाल से हटाया गया कर्फ्यू, कुछ इलाक़ों में धारा 144 अब भी जारी
Photo Courtesy: Webdunia

भोपाल। राजधानी भोपाल के तीन थानाक्षेत्रों में लगे कर्फ्यू को हटा लिया गया है। भोपाल क्लेक्टर ने रविवार को देर रात आदेश जारी कर टीला जमालपुरा, हनुमानगंज और गौतमनगर थाने में पूरी तरह से लागू कर्फ्यू को हटा दिया है। हालांकि, तीनों थाना क्षेत्र में आज भी धारा 144 लागू रहेगी। भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने ज़मीन विवाद के कारण हिंसा की आशंका को ध्यान में रखते हुए कल कर्फ्यू लगाया था।

कलेक्टर द्वारा देर रात जारी आदेश के मुताबिक शाहजहानाबाद, छोला मंदिर, निशातपुरा, तिलैया, मंगलवारा, जहांगीराबाद और नजीराबाद थाना क्षेत्र से धारा 144 हटा ली गई है। वहीं टीला जमालपुरा, हनुमानगंज और गौतमनगर में सोमवार को भी धारा 144 लागू रहेगी। भोपाल कलेक्टर ने कहा है कि परिस्थितियों को देखते हुए लॉ एंड आर्डर मेंटेन करने के लिए कर्फ्यू लगाना जरूरी था।

दरअसल तीस हज़ार वर्ग फीट के ज़मीन विवाद का एक मामला जीतने के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा जमीन की फेंसिंग सहित अन्य कार्य प्रारंभ किए गए थे। इस ज़मीन के मालिकाना हक पर पहले वक्फ बोर्ड ने दावा किया था लेकिन बाद में आरएसएस ने इसे कोर्ट से जीत लिया। लिहाज़ा आरएसएस अब ज़मीन के चारों और बाउंड्री वाल बना रहा है। ऐसे में प्रशासन ने किसी भी तरह की हिंसा को रोकने के लिए क्षेत्र में कर्फ्यू लगा देना ही मुनासिब समझा। कर्फ्यू लगने के बाद पुलिस ने सोमवारा, इतवारा, बुधवारा और भारत टॉकिज चौराहे को भी बंद करा दिया था।

कर्फ्यू रविवार सुबह 9 बजे से लागू कर दिया गया था। इस दौरान क्षेत्र के लोगों को केवल स्वास्थ्य संबंधी जैसी ज़रूरी कामों के लिए ही बाहर निकलने की इजाजत दी गई थी। हालांकि, कहा गया था कि प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होने जा रहे परीक्षार्थियों और परीक्षकों पर भी यह आदेश लागू नहीं होगा। आईडी दिखाने पर उन्हें आने जाने दिया जाएगा। इसके साथ ही यह आदेश शासकीय सेवक, पुलिस कर्मी और सशस्त्र बल पर लागू नहीं किया गया था। कर्फ्यू के दौरान सभी व्यावसायिक संस्थानों और दुकानों को रविवार को पूरी तरह बंद रखा गया था।