MP ByElections 2020: अनूपपुर में कमल नाथ की गाड़ी पर पथराव, भारतीय जनता युवा मोर्चा पर आरोप

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ की अनूपपुर रैली के दौरान उनकी गाड़ी पर BJYM कार्यकर्ताओं ने किया पथराव, कांग्रेस के नेताओं ने की आलोचना

Updated: Oct 07, 2020 05:04 PM IST

MP ByElections 2020: अनूपपुर में कमल नाथ की गाड़ी पर पथराव, भारतीय जनता युवा मोर्चा पर आरोप
courtesy: twitter feed

भोपाल। मध्यप्रदेश में आगामी उपचुनाव के मद्देनजर कमल नाथ ने आज अनूपपुर में रैली की। यहां से कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार विश्वनाथ सिंह कुंजम को अपना उम्मीदवार बनाया है। उनका मुकाबला कांग्रेस के बागी नेता और प्रदेश सरकार में खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह से होगा। 

बुधवार को हुई रैली के दौरान कमल नाथ के काफिले पर भारतीय जनता पार्टी के युवा संस्थान भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने कमल नाथ के काफिले पर जमकर पथराव किया। इसके साथ ही भाजूमो के कार्यकर्ताओं ने कमल नाथ को काले झंडे भी दिखाए। घटना का वीडियो अब सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार यह पूरा घटनाक्रम अनूपपुर में बीजेपी कार्यालय के समीप हुआ है। 

कमल नाथ के काफिले पर हुए पथराव का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही एक एक कर के कांग्रेसी नेताओं की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। केके मिश्रा ने घटना की निन्दा करते हुए कहा है 'अनूपपुर यात्रा के दौरान आज मान. कमलनाथ जी के समक्ष  BJYM का विरोध प्रदर्शन, कार पर पथराव,सरकार की शह पर हुई प्रायोजित हिंसा,परिणाम भुगतने होंगे,गांधी की हत्यारी विचारधारा का चरित्र एक बार फिर सामने आया,शिवराज जी, प्रदेश को कहां ले जाना चाह रहे हैं?' 

उधर पूर्वर्ती कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे पीसी शर्मा ने शायराना आंदाजा में कहा है कि यह पूरा घटनाक्रम बीजेपी की प्रत्याशित हार की गवाही दे रहा है। पीसी शर्मा ने लिखा है 'ये जो तुम्हारे हाथ में चाकू, छुरी और बेंत हैं,ये सबके सब तुम्हारी हार के संकेत हैं।'

वहीं कमल नाथ के बेटे और छिन्दवाड़ा से सांसद नकुल नाथ ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि 'राजनीति में ऐसी असभ्यता का विरोध करता हूं लोकतंत्र में सभी को अपनी बात कहने का विरोध करने का हक और अधिकार है लेकिन कानून हाथ में लेने का नहीं।आज पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ जी की गाड़ी पर पथराव होना बेहद निंदनीय है  और ऐसा करवाने वालों की घटिया मानसिकता और हताशा का परिचय है।'