MP में कॉलेजों के लिए जारी हो सकती है नई गाइडलाइन, अफ्रीकी वेरिएंट और बढ़ते मामलों ने बढ़ाई चिंता

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना को देखते हुए अब नए सिरे से निर्देश दिए हैं, सीएम ने सैंपलिंग की संख्या बढ़ाने और दवाइयों की उपलब्धता बढ़ाने के लिए कहा है, सीएम के इस निर्देश ने कई तरह के सवालों को जन्म दे दिया है

Updated: Nov 29, 2021, 06:43 AM IST

MP में कॉलेजों के लिए जारी हो सकती है नई गाइडलाइन, अफ्रीकी वेरिएंट और बढ़ते मामलों ने बढ़ाई चिंता

भोपाल। मध्य प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामले और दक्षिण अफ्रीकी वेरिएंट के खतरे को देखते हुए एक बार फिर कोरोना पाबंदियों को लागू किया जा सकता है। इसकी संभावना सीएम शिवराज द्वारा दिए गए निर्देशों के बाद बढ़ गई है। सीएम ने प्रदेश में सैंपलिंग और दवाइयों की उपलब्धता बढ़ाने के निर्देश हैं। वहीं सोमवार को मध्य प्रदेश में कॉलेजों के संचालन हेतु नए दिशा निर्देश जारी होने की संभावना है।

सीएम शिवराज ने रविवार को कहा कि उन्होंने कोरोना के खतरे को देखते हुए तैयारी करने के निर्देश दिए हैं। सैंपलिंग की संख्या और दवाइयों की उपलब्धता बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही सभी तरह के इंजेक्शन, ऑक्सीजन और बिस्तरों की संख्या बढ़ाने के लिए कहा है। सीएम ने कहा कि प्रदेश में संदिग्ध पाए जाने वाले व्यक्ति को आइसोलेशन में रखे जाने की भी तैयारी है।

इसके साथ ही सीएम ने प्रदेश के स्कूलों के बारे में बताया कि स्कूलों को पचास फीसदी की क्षमता से ही संचालित किया जाएगा। वहीं कक्षाएं का संचालन ऑनलाइन होगा। इस बारे में तमाम कलेक्टरों और एसपी को निर्देश किया जाएगा। पूरा प्रदेश अलर्ट पर रहेगा। 

मुख्यमंत्री की इस घोषणा से एक बार फिर प्रदेश में कोरोना पाबंदियों को दोबारा लागू करने की संभावना जताई जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक खुद प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव प्रदेश के कॉलेजों को लेकर सोमवार को नए दिशानिर्देश जारी कर सकते हैं। हाल ही में कॉलेजों को सौ फीसदी क्षमता के साथ खोले जाने की अनुमति दी गई थी। 

यह भी पढ़ें: नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर मप्र में अलर्ट, एक बार फिर आधी क्षमता से स्कूल खोलने का फैसला

दरअसल 17 नवंबर को सीएम शिवराज ने प्रदेश में कोरोना पाबंदियों को हटाने का एलान किया। सीएम के एलान के ठीक बाद ही पूर्व सीएम कमल नाथ ने इस फैसले का विरोध किया था। पूर्व सीएम ने कहा था कि कोरोना से निपटने की पूरी तैयारी किए बगैर ही शिवराज सरकार ने प्रदेश की जनता को भगवान भरोसे छोड़ दिया है।

सीएम के एलान का असर मध्य प्रदेश में दिखने लगा। एलान के बाद से ही प्रदेश में एक बार फिर कोरोना संक्रमण अपनी रफ्तार पकड़ने लगा। मध्य प्रदेश में एक्टिव मामलों की संख्या सौ के पार पहुंच गई। बीते पचास दिनों में मध्य प्रदेश में कोरोना के पांच सौ से अधिक मामले दर्ज किए हैं। जबकि पांच लोगों की मौत भी हुई है।