कोरोना की आड़ में विधानसभा सत्र फिर एक दिन में ख़त्म करने की साज़िश, कांग्रेस ने लगाया संगीन आरोप

कांग्रेस नेता अरुण यादव ने कहा, 28 दिसंबर को किसानों के समर्थन में ट्रैक्टर से ही विधानसभा जाएँगे कांग्रेस विधायक, 5 किलोमीटर के दायरे में वाहनों पर रोक और धारा 144 लागू करने का किया विरोध

Updated: Dec 27, 2020, 02:11 AM IST

कोरोना की आड़ में विधानसभा सत्र फिर एक दिन में ख़त्म करने की साज़िश, कांग्रेस ने लगाया संगीन आरोप
Photo Courtesy: Twitter/MP Congress

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस ने आज भोपाल में एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस करके बीजेपी की केंद्र और राज्य सरकारों पर तीखे हमले किए। मध्य प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने किसान आंदोलन से लेकर विधानसभा सत्र समेत तमाम मुद्दों पर बीजेपी को जमकर घेरा। कांग्रेस ने बीजेपी की सरकारों पर किसानों के दमन उत्पीड़न का आरोप लगाया। साथ ही यह भी कहा कि शिवराज सिंह चौहान जनता से जुड़े ज्वलंत मुद्दों और सवालों से बचने के लिए विधानसभा का सत्र ठीक से नहीं चलाना चाहते। कांग्रेस का आरोप है कि पिछले सत्र की तरह ही विधानसभा का शीतकालीन सत्र भी एक दिन में ही खत्म करने की साज़िश रची जा रही है।   

कांग्रेस विधायक ट्रैक्टर से विधानसभा जाने पर अडिग: अरुण यादव

कांग्रेस नेता अरुण यादव ने कहा कि एक तरफ़ देश के अन्नदाता मोदी सरकार के काले क़ानूनों के ख़िलाफ संघर्ष कर रहे हैं। देश के लोग उनका साथ दे रहे हैं। हमने तय किया कि 28 तारीख़ को काले क़ानून का विरोध करेंगे। कांग्रेस ने हमेशा किसानों का साथ दिया है। कल एक नोटिस आया है, जिसमें कहा गया है कि धारा 144 लागू कर दी गई और पाँच किलोमीटर के दायरे में कोई वाहन नहीं जाएगा। तो क्या विधायक पैदल जाएँगे? ऐसा कौन सा क़ानून कहता है कि अगर विधायक चाहें तो ट्रैक्टर से विधानसभा नहीं जा सकते। हमारा कार्यक्रम तय है। हमारे विधायक ट्रैक्टर से विधानसभा जाएँगे। काले क़ानून के नतीजे सामने आना शुरू हो गए हैं।

 

अरुण यादव ने कहा कि ऐसी ख़बरें सामने आ चुकी हैं कि अदाणी की कंपनी ने समझौते के बावजूद किसानों का धान नहीं ख़रीदा, उन्हें पूरा भुगतान नहीं किया गया। मुख्यमंत्री के गृह ज़िले  सीहोर ज़िले में भी किसानों को सम्मान निधि के पैसे दिए जाने के दो महीने बाद ही ब्याज समेत रकम वापसी के नोटिस दिए गए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार और बीजेपी नेताओं की तरफ़ से सिर्फ़ झूठी बातें करके किसानों को बरगलाने का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन कांग्रेस पार्टी किसानों के संघर्ष में पूरी तरह उनके साथ रहेगी।

मध्य प्रदेश में डरपोक मुख्यमंत्री का राज, विधानसभा सत्र से भाग रहे हैं: सज्जन वर्मा

मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि एक डरपोक मुख्यमंत्री के राज में हम लोग रह रहे हैं। वे विधानसभा का सत्र तक नहीं चलाना चाहते। मैं दावे से कहता हूँ दिग्विजय सिंह जब मुख्यमंत्री थे, हम लोग मंत्री थे, तो ढाई-ढाई महीने विधानसभा सत्र चला है। लेकिन इनके राज में पिछला सत्र एक दिन में ख़त्म कर दिया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि इस बार भी विधानसभा सत्र एक दिन में समाप्त करने का षड्यंत्र चल रहा है।

सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि भाजपा जनहित के मुद्दों से दूर भागने वाली पार्टी है। ये किसानों के नाम पर राजनीति करते हैं लेकिन किसानों का सबसे ज़्यादा दमन भाजपा के राज में होता है। जब चुनाव आते हैं तो बहुत सारे किसान पुत्र भाजपा में पैदा हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा में विधायकों के जनहित से जुड़े 950 प्रश्न लगे हैं। डीज़ल-पेट्रोल-रसोई गैस-बिजली के बढ़ते दामों समेत आम लोगों से जुड़े तमाम मुद्दों को सदन में विपक्ष उठाना चाहता है।

स्पीकर, डिप्टी स्पीकर के चुनाव को लेकर बीजेपी में बगावत होगी: सज्जन वर्मा

सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि ऐसे तमाम जनहित के ज्वलंत मुद्दों से शिवराज सरकार भागती है, इसीलिए चाहते हैं सत्र एक दिन में ही ख़त्म हो जाए। उन्होंने यह सवाल भी पूछा कि शिवराज सरकार स्पीकर, डिप्टी स्पीकर का चुनाव क्यों नहीं करा रहे? सज्जन सिंह ने दावा किया कि शिवराज को पता है कि जिस दिन ये चुनाव कराए जाएँगे, बीजेपी में बड़ा विद्रोह होगा, इसीलिए चुनाव से भाग रहे हैं।