कांग्रेस का विजय प्लान, चुनाव पूर्व विजय पथ यात्रा पर निकलेंगे दिग्विजय सिंह, सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों का करेंगे दौरा

विजयादशमी के दिन से शुरू होगी दिग्विजय सिंह की यात्रा, प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में जाकर कार्यकर्ताओं के करेंगे एक्टिव, पीसीसी चीफ कमलनाथ भी होंगे शामिल

Updated: Jun 03, 2022, 09:35 PM IST

कांग्रेस का विजय प्लान, चुनाव पूर्व विजय पथ यात्रा पर निकलेंगे दिग्विजय सिंह, सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों का करेंगे दौरा

भोपाल। आगामी विधानसभा चुनाव के लिए मध्य प्रदेश कांग्रेस मिशन मोड में जुटी हुई है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा सभी मोर्चों पर रणनीति तैयार किया जा रहा है। इस बार चुनाव में एक बार फिर दिग्विजय सिंह की भूमिका बेहद खास मानी जा रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक सिंह विजय दशमी से "विजय पथ यात्रा" पर निकलने वाले हैं।

बताया जा रहा है कि विजयदशमी से शुरू होकर यह यात्रा तीन महीने से ज्यादा समय तक चलेगी। यात्रा के तहत राज्यसभा सांसद दिग्विजय प्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों में पहुंचेंगे और कार्यकर्ताओं से संवाद स्थापित करेंगे। पीसीसी चीफ कमल नाथ, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव, अजय सिंह राहुल, सुरेश पचौरी, कांतिलाल भूरिया सहित कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेता बीच बीच में इस यात्रा में शामिल होते रहेंगे।

यह भी पढ़ें: जी भाई साहब जी: बीजेपी की तुरूप चाल और ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को बैलेंस करने का गणित

दरअसल, पीसीसी चीफ ने मिशन 2023 के लिए वरिष्ठ नेताओं को अलग-अलग जिम्मेदारी सौंपी है। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को प्रदेशभर के कार्यकर्ताओं को सक्रिय करने और रूठे हुए कार्यकर्ताओं को भी साथ लाने का जिम्मा सौंपा गया है। विजय पथ यात्रा का मसौदा इसी मकसद से तैयार किया गया है। इसके माध्यम से सिंह न केवल बीजेपी सरकार को घेरेंगे बल्कि कार्यकर्ताओं में भी ऊर्जा का संचार करेंगे। 

सियासी जानकारों का बताते हैं कि सिंह की कार्यकर्ताओं पर पकड़ अन्य नेताओं की तुलना में बेहतर है और जीवंत है। वे कार्यकर्ताओं से सीधे संपर्क में रहते हैं। साल 2018 विधानसभा चुनाव से पूर्व भी उन्होंने संगत-पंगत नाम से कार्यकर्ता सम्मेलन किए थे। इससे नाराज कार्यकर्ताओं को सक्रिय करने में कांग्रेस को सफलता मिली थी। इसका नतीजा यह निकला कि पार्टी की 15 साल बाद सत्ता में वापसी हुई थी।

यह भी पढ़ें: PM मोदी के दौरे के बीच कानपुर में दंगे शुरू, दो समुदायों के बीच झड़प, फायरिंग और बमबारी से थर्राया शहर

इसके अलावा चुनाव से एक साल पहले उन्होंने नर्मदा परिक्रमा भी की थी। हालांकि, यह गैर राजनीतिक थी पर सियासी पंडित इस यात्रा को कांग्रेस की वापसी के लिए बेहद अहम मानते हैं। चूंकि यह पैदल यात्रा था इसलिए जनता से वे डायरेक्ट कनेक्ट बनाने में सफल रहे थे। वर्तमान में भी महंगाई के विरुद्ध जनजागरण अभियान के तहत कई जिलों का दौरा कर चुके हैं। बहरहाल, अब देखना यह होगा कि सिंह के इस यात्रा से कांग्रेस कितनी मजबूत होकर सत्ता में वापसी करती है।