विदिशा: रास्ता रोकने पर दलित को ट्रैक्टर से कुचला, बुज़ुर्ग की मौत

विदिशा पीकलोन गांव का मामला, गांव में बने रविदास मंदिर की देखरेख करता था दलित परिवार, गांव के ही एक व्यक्ति ने मंदिर के पास से रास्ता निकालने की कोशिश की, जिस वजह से विवाद हो गया, आरोपी ने दलित बुज़ुर्ग को ट्रैक्टर से कुचल दिया

Publish: Apr 12, 2021, 10:34 AM IST

विदिशा: रास्ता रोकने पर दलित को ट्रैक्टर से कुचला, बुज़ुर्ग की मौत
Photo Courtesy: Dainik Bhaskar

विदिशा। मध्यप्रदेश में दलितों पर अत्याचार का एक और हृदय विदारक मामला सामने आया है। विदिशा के कुरवाई थाना क्षेत्र के एक गांव में गांव के एक व्यक्ति द्वारा ज़बरदस्ती रास्ता निकालने से मना करने पर दलित व्यक्ति को ट्रैक्टर से कुचल दिया गया है। बुज़ुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई। वहीं विवाद के वक्त दोनों पक्षों में झड़प के कारण चार लोग घायल हो गए। 

यह मामला रविवार दोपहर का है। कुरवाई के पीकलोन गांव में संत रविदास का एक मंदिर है, जिसे अहिरवार समाज ने बनाया है। गांव के दलित हरप्रसाद और उनका परिवार इस मंदिर की देखरेख किया करते थे। मंदिर की ज़मीन को लेकर काफी अरसे से विवाद चले आ रहा है। 

रविवार को गांव का ही रहने वाला व्यक्ति मोहन सिंह दांगी अपने खेत पर ट्रैक्टर लेकर पहुंचा था। मोहन सिंह ने मंदिर के बाहर लगी फेंसिंग को ट्रैक्टर से तोड़ना शुरू कर दिया। मोहन सिंह की इस हरकत पर जब 70 वर्षीय हरप्रसाद ने विरोध किया तब मोहन सिंह ने हर प्रसाद के ऊपर बेरहमी से ट्रैक्टर चढ़ा दिया। इस बीच मौके पर हरप्रसाद के परिजन भी पहुंच गए। जहां पर दोनों पक्षों में विवाद शुरू हो गया। 

ट्रैक्टर से बेरहमी से कुचले जाने के कारण हरप्रसाद की मौत हो गई। वहीं दोनों पक्षों में हुए खूनी संघर्ष के कारण 6 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को कुरवाई के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर हरप्रसाद के परिजनों ने हंगामा कर दिया। गांव में बनी तनाव की स्थिति को देखते हुए स्थानीय प्रशासन ने गांव में पुलिस बल की तैनाती कर दी है। फिलहाल हत्या के आरोपी मोहनसिंह दांगी और उसके बेटे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।