AIIMS भोपाल का डिप्टी डायरेक्टर 1 लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार, बिल पास करने की एवज में ली घूस

CBI ने AIIMS भोपाल के डिप्टी डायरेक्टर प्रशासनिक धीरेंद्र प्रताप सिंह को 40 लाख का बिल पास करने के नाम पर 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया, मेडिकल कांट्रेक्टर से ले रहा था रकम

Updated: Sep 25, 2021, 04:50 PM IST

AIIMS भोपाल का डिप्टी डायरेक्टर 1 लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार, बिल पास करने की एवज में ली घूस
Photo Courtesy: Bhaskar

भोपाल। मध्यप्रदेश में एक और रिश्वतखोर को शिकंजे में लिया गया है। इस बार CBI ने AIIMS के डिप्टी डायरेक्टर को ट्रैप किया है। एक लाख रुपए की घूस लेते डिप्टी डायरेक्टर एडमिनिस्ट्रेशन धीरेंद्र प्रताप सिंह की गिरफ्तारी हुई है। डिप्टी डायरेक्टर  ने मेडिकल कांट्रेक्टर से 40 लाख रुपए का बिल पास करने के बदले घूस मांगी थी।

शाहपुरा थाना क्षेत्र स्थित विष्णु रेस्टोरेंट के पास फरियादी से रुपए लेते आरोपी रंगे हाथ पकड़ाया है। बताया जा रहा है कि लंबे समय से बिल पास करने के लिए टालमटोल किया जा रहा था। आखिरकार डिप्टी डायरेक्टर ने मेडिकल कांट्रेक्टर से बिल पास करने के बदले पैसों की मांग की। जिसे शाहपुरा थाना इलाके के विष्णु रेस्टोरेंट में देना तय हुआ था।  शनिवार को AIIMS में हाफ डे होता है, इसलिए धीरेंद्र सिंह दोपहर 2 बजे तक दफ्तर में थे। फिर वे वहां से  रिश्वत की रकम लेने रेस्टोरेंट पहुंचे ।

और पढ़ें: 3 हजार की रिश्वत लेते सरकारी कर्मचारी गिरफ्तार, गजट नोटिफिकेशन के लिए महिला वकील से लिया घूस

फरियादी ने इसकी शिकायत CBI से कर दी थी। जिसके बाद पूरा प्लानिंग के तहत आऱोपी अफसर को रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है। इस कार्रवाई के बाद AIIMS में भी हड़कंप मच गया है।  डिप्टी डायरेक्टर के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की भी तैयारी है। CBI पूछताछ में जुटी है। धीरेंद्र सिंह और उसके परिजनों के बैंक खातों की जांच की जा रही है। खबर है डिप्टी डायरेक्टर ने 2 लाख मांगे थे लेकिन 1 लाख में डील तय हुई थी। जिसे लेते डिप्टी डायरेक्टर को रंगेहाथ गिरफ्तार किया गया है।मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधिकारी धीरेंद्र सिंह नवंबर 2020 में यहां प्रतिनियुक्ति पर आए हैं। 

और पढ़ें: 12 हजार रुपए की रिश्वत लेते पंधाना कृषि उपज मंडी का ASI गिरफ्तार, दो अन्य पर भी केस दर्ज

कोरोना काल में AIIMS प्रबंधन पर कई आऱोप लगते रहे हैं। अस्पताल में मरीजों से दुर्व्यवहार और इलाज में देरी की भी शिकायतें मिलती रही हैं।