अफसरी छोड़ सियासत में आने की ख्वाहिश: वरद मूर्ति मिश्रा के बाद MP के एक और IAS ने लिया वीआरएस

1993 बैच के आईएएस अफसर मनोहर अगनानी 6 जनवरी को हो जाएंगे रिटायर, फिलहाल केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ हैं मनोहर अगनानी।

Updated: Dec 17, 2022, 02:43 PM IST

अफसरी छोड़ सियासत में आने की ख्वाहिश: वरद मूर्ति मिश्रा के बाद MP के एक और IAS ने लिया वीआरएस

भोपाल। मध्य प्रदेश के ब्यूरोक्रेट्स में अफसरी छोड़ सियासी पिच पर बैटिंग करने की ख्वाहिशें बढ़ने लगी है। प्रमोटी आईएएस अधिकारी वरद मूर्ति मिश्रा के बाद एक और आईएएस अधिकारी ने वीआरएस लिया है। स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले इस अधिकारी का नाम मनोहर अगनानी है।

मध्य प्रदेश कैडर के 1993 बैच के आईएएस अधिकारी मनोहर अगनानी फिलहाल केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ हैं। जानकारी के मुताबिक अगनानी ने बीते 6 दिसंबर को वीआरएस मांगा था, जिसके बाद 6 जनवरी 2023 को मनोहर अगनानी रिटायर हो जाएंगे। 

बता दें कि वीआरएस के लिए अधिकारी द्वारा 3 महीने पूर्व सूचना देने का नियम है लेकिन सरकार ने इस नियम में उन्हें छूट दे दी है। ऐसे में वे एक महीने में ही रिटायर हो जाएंगे। इससे पहले एक और अधिकारी वरद मूर्ति मिश्रा वीआरएस ले चुके हैं। मिश्रा ने भी वीआरएस लेकर अपनी अलग राजनीतिक पार्टी बनकर राजनीतिक जीवन की शुरुआत की है।

ऐसे में अब मनोहर अगनानी के अगले कदम पर सभी की नजरें टिकी हुई है। हालांकि, ये स्पष्ट नहीं है कि वे राजनीति में जाएंगे या नहीं। कयास लगाए जा रहे हैं कि वे वरद मूर्ति मिश्रा की पार्टी वास्तविक भारत पार्टी से जुड़ सकते हैं। हाल ही में वरद मूर्ति मिश्रा ने राज्य के सभी 230 सीटों पर चुनाव लड़ने का भी ऐलान किया था।

यह भी पढ़ें: रिटायर्ड IAS वरद मूर्ति मिश्रा ने बनाई नई पार्टी, एमपी के सभी 230 सीटों पर चुनाव लड़ने का किया ऐलान

प्रशासनिक सेवा से राजनीति में आए पूर्व आईएएस डॉ वरद मूर्ति मिश्रा का कहना है कि, 'प्रदेश में सरकार पर कर्ज लगातार बढ़ रहा है। शिक्षित युवा बेरोजगार काम न मिलने से प्रताड़ित हैं। करोड़ों रुपए से प्रदेश में सरकारी अस्पताल बन रहे हैं लेकिन आधे से अधिक मेडिकल स्टाफ और डॉक्टरों के पद खाली पड़े हैं। भाजपा-कांग्रेस के राजनेता केवल मुद्दों से भटकाकर सरकार में आना चाहते हैं। प्रदेश में अब तीसरे मोर्चे की आवश्यकता है।'