Digvijaya Singh: सीहोर में किसानों का हाल जानने पहुंचे दिग्विजय सिंह

MP Farmers Distress: राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने फसल बर्बाद होने पर आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों से की मुलाकात की

Updated: Sep 04, 2020 06:50 PM IST

Digvijaya Singh: सीहोर में किसानों का हाल जानने पहुंचे दिग्विजय सिंह

सीहोर। इस समय मध्यप्रदेश भारी बारिश और बाढ़ का कहर झेल रहा है। किसानों की फसलें खराब हो गई हैं। सरकारी अनुमान के मुताबिक त्रासदी से पूरे प्रदेशभर में लगभग 7 लाख हेक्टेयर से ज़्यादा फसलें बर्बाद हो चुकी हैं। फसलें बर्बाद होने के कारण हाल ही में सीहोर ज़िले के दो किसानों ने आत्महत्या कर ली है। ऐसे में मौसम की मार झेल रहे किसानों का हाल जानने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह शुक्रवार को सीहोर पहुंचे थे। राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने अतिवृष्टि से खराब हुई सोयाबीन व अन्य फसलों का निरीक्षण किया वहीं मौसम की मार झेल रहे किसानों से भी चर्चा की।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह सीहोर जिले के उरली कला गांव पहुंचे जहां उन्होंने मृतक किसान रमेश मालवीय के परिजनों से मुलाकात कर संवेदना व्यक्त की। वे सीहोर जिले के ग्राम गुड़भेला भी गए जहां उन्होंने बाबूलाल वर्मा के परिजनों से मुलाकात कर संवेदना व्यक्त की। ये वही बाबूलाल वर्मा हैं जिनके बारे में शिवराज सरकार के मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा था कि उनका मानसिक संतुलन खराब था इसीलिए उन्होंने आत्महत्या की है। हालांकि परिजनों का कहना है कि बाबूलाल वर्मा फसल खराब होने की वजह से कर्ज में डूबे थे इसीलिए परेशान और व्यथित होकर उन्होंने आत्महत्या कर ली थी। 

मृतक किसानों के परिजनों से मुलाकात करने के बाद दिग्विजय सिंह मुंडलाकला भी गए जहां उन्होंने मुबारिक खान की 4 बच्चियों के डूबने से मृत्यु पर शोक संवेदना व्यक्त की। दिग्विजय सिंह सीहोर के वार्ड 14 के गंज पहुंचे जहां उन्होंने ऐलम राठौर व प्रेम राठौर के 2 बच्चों के डूबने से मृत्यु होने पर परिजनों से मुलाकात कर शोक संवेदना व्यक्त की।

सीहोर जिले के दौरे के दौरान पूर्व विधायक शैलेन्द्र पटेल, जिला अध्यक्ष बलवीर तोमर, सचिन वत्स, कमलेश चांडक, ब्रजेश पटेल व अन्य कांग्रेसी जन उपस्थित थे। दिग्विजय सिंह ने भोपाल जिले के तूमड़ा, बरखेड़ा सालम, खजूरी, कोड़िया, टीलाखेड़ी, बड़झिरी, रातीबड़ और नीलबड़ आदि गांवों में अतिवृष्टि से नष्ट हुई फसलों का निरीक्षण किया व पीड़ित किसानों से चर्चा की।