रॉयल स्टैग ब्रांड की बोतल में बिक रही है नक़ली शराब, पुलिस अधीक्षक ने किया सावधान

इंदौर पश्चिम के पुलिस अधीक्षक ने इंदौर ज़हरीली शराब कांड में किया बड़ा खुलासा, रॉयल स्टैग के नाम पर नकली शराब पीने से गई थी युवकों की जान, बार संचालकों से की नकली रॉयल स्टैग न उपयोग करने की अपील

Updated: Jul 30, 2021, 07:38 PM IST

रॉयल स्टैग ब्रांड की बोतल में बिक रही है नक़ली शराब, पुलिस अधीक्षक ने किया सावधान
Photo Courtesy : Naidunia

इंदौर। इंदौर ज़हरीली शराब कांड में बड़ा खुलासा हुआ है। नकली शराब पीने से मरने वाले युवकों की जान रॉयल स्टैग ब्रैंड के नाम की नकली शराब पीने से हुई थी। यह खुलासा इंदौर पश्चिम के एसपी महेश चंद जैन ने किया है। पुलिस अधीक्षक ने इंदौर के बार संचालकों से अपील की है कि वे बाज़ार से सस्ते दाम के चक्कर में खरीदी गई शराब को अपने बार या कहीं और उपयोग में न लाएं। 

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि रॉयल स्टैग के सेवन के बाद युवकों की मौत होने से इस बात की प्रबल आशंका है कि नकली रॉयल स्टैग ही युवकों की मौत का कारण बनी है। महेश चंद ने कहा कि बार संचालकों ने भी यह बात कबूली है कि सस्ते दाम पर मिलने की वजह से उन्होंने बाहर से शराब खरीदा। जो कि मिलावटी थी और उसका सेवन करने के बाद युवकों की जान चली गई।  

यह भा पढ़ें ः आबकारी मंत्री के गृह जिले मंदसौर में जहरीली शराब पीने से 3 की मौत 3 गंभीर, प्रशासन ने माफ़िया का घर तोड़ा

पुलिस अधीक्षक ने बार संचालकों को बाहर से ली गई शराब का उपयोग न करने का अनुरोध किया है। महेश चंद ने कहा है कि जो लोग मिलावटी शराब तैयार करने का धंधा कर रहे हैं, उनके द्वारा तैयार की गई शराब अन्य बार में भी हो सकती है। जो कि कई और लोगों की मृत्यु का कारण बन सकती है। इसलिए पुलिस अधिकारी ने बार संचालकों और तमाम लोगों से ऐसी शराब का इस्तेमाल न करने की अपील की है। एसपी ने कहा है कि जहां से यह शराब खरीदी गई, उसके बारे में उन्हें सीधे तौर पर जानकारी दी जा सकती है। ताकि नकली शराब के रैकेट का भंडाफोड़ हो सके और लोगों की ज़िंदगियों को खतरे में पड़ने से बचाया जा सके। एसपी महेश चंद ने इसके लिए अपना फोन नंबर भी जारी किया है। 

यह भा पढ़ें ः नकली शराब पर चौतरफा घिरी सरकार, मौतों के बाद गृह मंत्री ने कहा, कड़ा कानून बनाएंगे

दरअसल इंदौर में नकली शराब पीने के कारण अब तक पांच युवकों की जान जा चुकी है। एक युवक की हालत गंभीर बनी हुई है। ये सभी मौतें उन युवकों की हुई है जिन्होंने इंदौर के पैराडाइज़ बार और सपना बार में शराब का सेवन किया था।  पैराडाइज़ बार में 23 और 24 जुलाई की दरमियानी रत को सागर और शिशिर तिवारी पी रहे थे। इसी दौरान उनके कुछ दोस्त और आ गए। सबने मिलकर शराब पी। अगले दिन सागर की मौत हो गई। इसके बाद अभिषेक अग्निहोत्री नामक युवक की भी मौत हो गई। शराब पीने वाले एक अन्य युवक रिंकू की हालत अब भी नाज़ुक है। वहीं ठीक ऐसा ही घटनाक्रम इंदौर के सपना बार में भी हुआ। सपना बार में शराब पीने वाले सचिन गुप्ता की 24 जुलाई को मौत हो गई। जबकि उसी बार में शराब का सेवन करने वाले शिवनंदन रावत की 27 जुलाई तक मौत हो गई। नकली शराब से मौतों का मामला सिर्फ इंदौर तक ही सीमित नहीं है। मंदसौर, खंडवा और खरगोन में भी नकली शराब पीने से लोगों की मौत हो चुकी है।