IPS की शादी में चोरी, चंद घंटे पहले केंद्रीय मंत्री सिंधिया समेत मप्र के कई कैबिनेट मंत्रियों ने की थी शिरकत

कड़ी सुरक्षा के बाद भी IPS की शादी में हुई चोरी, पुलिस महकमें की व्यवस्था पर उठे सवाल, लोगों ने कहा जब पुलिस के यहां चोरी तो जनता की सुरक्षा भगवान भरोसे

Updated: Dec 07, 2021, 02:03 PM IST

IPS की शादी में चोरी, चंद घंटे पहले केंद्रीय मंत्री सिंधिया समेत मप्र के कई कैबिनेट मंत्रियों ने की थी शिरकत
Photo Courtesy: social media

शिवपुरी। शादियों में चोरी की घटनाएं तो अक्सर होती रहती हैं, लेकिन एक IPS आफिसर की शादी में चोरी का संभवत: पहला मामला आया है। जहां चोरों ने शादी गार्डन में लाखों के गहने और कैश पर हाथ साफ कर दिया। सोमवार रात करीब 12 की चोरों ने इस घटना को अंजाम दिया। चोरी की यह घटना वहां लगे CCTV में कैद हो गई है। शिवपुरी में IPS नरेंद्र सिंह रावत की शादी हो रही थी। तभी चोरो ने दुल्हन पक्ष के गहने और पैसे चोरी कर लिए।

खास बात यह है कि इसी शादी में कुछ घंटे पहले केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी दूल्हा-दुल्हन को आशीर्वाद देने पहुंचे थे। उनके साथ मंत्री सुरेश राठखेड़ा और स्थानीय विधायक वीरेंद्र रघुवंशी भी मौजूद थे। हाई प्रोफाइल शादी में सुरक्षा के बाद भी चोरों ने अपना काम कर दिया।

बताया जा रहा है कि रात में जब लोग स्टेज पर फोटो खिंचवाने में लगे थे, तभी लड़की वालों के कमरों में किसी ने हाथ साफ कर दिया। आरोपियों ने 3 कमरों में चोरी की। चोरों ने लड़की वालों के कमरें पर सेंध लगाई और गहने और कैश लेकर भाग खड़े हुए। नक्षत्र वाटिका के CCTV में चोरों की तस्वीर नजर आई है। IPS की शादी में चोरी से पुलिस में हड़कंप मच गया है। लोग दबी जुबान में कह रहे हैं कि जब पुलिस अफसरों के यहां ये हाल है तो आम आदमी की सुरक्षा का भगवान ही मालिक है।  फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

UPSC परीक्षा में 165 रैंक हासिल करने वाले नरेंद्र सिंह ने बीएचयू से केमिकल ब्रांच से बीटेक किया। वे इससे पहले फारेस्ट सर्विसेस में थे। UPSC की 2020 में 165वीं रैंक पाई थी, लेकिन उन्होंने कलेक्टर बनने की जगह पुलिस सेवा में जाना चुना। नरेंद्र जनता से सीधे जुड़ने में भरोसा रखते हैं। अब उनकी शादी में चोरी की घटना से उनकी और उनके विभाग की काफी किरकिरी हो रही है। फिलहाल नरेंद्र सिंह की ट्रेनिंग जारी है। इस बीच वे छुट्टी लेकर शादी करने आए थे।