राघौगढ़ में ट्रक ने स्कूली छात्र को कुचला, पुलिस से भिड़े गुस्साए लोग, MLA जयवर्धन सिंह ने दिया हरसंभव मदद का भरोसा

तेज रफ्तार ट्रक की चपेट में आया स्कूली छात्र, भीड़ ने ट्रक में लगाई आग, चालक फरार, स्थानीय विधायक जयवर्धन ने दी परिजनों को सांत्वना, सीएम शिवराज को पत्र लिख 50 लाख मुआवजे की मांग की

Updated: Sep 04, 2021, 05:27 PM IST

राघौगढ़ में ट्रक ने स्कूली छात्र को कुचला, पुलिस से भिड़े गुस्साए लोग, MLA जयवर्धन सिंह ने दिया हरसंभव मदद का भरोसा

राघौगढ़। मध्य प्रदेश के गुना जिले अन्तर्गत राघौगढ़ में एक दर्दनाक हादसे में स्कूली छात्र की मौत हो गई। यहां तेज रफ्तार ट्रक साइकिल से स्कूल जा रहे छात्र के ऊपर चढ़ गई। ट्रक से कुचलने के बाद छात्र ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद स्थानीय लोगों ने ट्रक को आग के हवाले कर दिया वहीं पुलिस की गाड़ियों को भी नुकसान पहुंचाया। इस दौरान स्थानीय कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह ने मौके पर पहुंचकर भीड़ को समझाया और परिजनों को हर संभव मदद का भरोसा दिया। 

बताया जा रहा है कि शनिवार सुबह करीब आठ बजे रामप्रसाद सैनी का 14 वर्षीय बेटा रितिक साइकिल से हिंदुपथ स्कूल जा रहा था। राघौगढ़ नगर में बस स्टैंड के पास रितिक पीडीएस का चावल लेकर आ रहे ट्रक की चपेट में आ गया। घटना का सीसीटीवी वीडियो भी सामने आया है जिसमें देखा जा सकता है कि तेज रफ्तार ट्रक की टक्कर से अनियंत्रित होकर रितिक नीचे गिर जाता है और ट्रक के चारों पहिए उसके सिर के ऊपर से निकल जाते हैं। 

बेटे की मौत की खबर सुनते ही रामप्रसाद सैनी के घर में चीख-पुकार मच गई। वहीं आक्रोशित स्थानीय लोगों ने ट्रक में आग लगा दिया। चावल समेत पूरी ट्रक धु-धुकर जल गई। हालांकि, चालक मौके से फरार हो गया था। घटनास्थल पर जब पुलिस प्रशासन की टीम पहुंची तो गुस्साए लोगों ने उनके वाहनों के भी कांच फोड़ दिए। भीड़ के बेकाबू होने की जानकारी मिलते ही आनन-फानन में स्थानीय कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह वहां पहुंचे और लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया। 

जयवर्धन सिंह ने इस दौरान पीड़ित परिजनों से भी मुलाकात की और उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। सिंह ने देर शाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर इस मामले से अवगत कराया और पीड़ित परिजनों को 50 लाख रुपए मुआवजा देने की मांग की। साथ ही परिवार के एक सदस्य को शासकीय नौकरी दिलाने की भी मांग की है। मुख्यमंत्री को उन्होंने बताया कि पीड़ित परिवार बेहद गरीब और इस घटना में उन्होंने अपना सबकुछ खो दिया है।