मध्यप्रदेश में कोरोना से हाहाकार, सक्रिय मामलों की संख्या 1 लाख पार, भोपाल में 13 हजार एक्टिव केस

राज्य के चार बड़े शहरों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में 42 फीसदी सक्रिय मामले, नए मरीजों की तुलना में ठीक होने वालों की संख्या बेहद कम

Updated: May 09, 2021, 12:49 PM IST

मध्यप्रदेश में कोरोना से हाहाकार, सक्रिय मामलों की संख्या 1 लाख पार, भोपाल में 13 हजार एक्टिव केस
Photo Courtesy: The Indian Express

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस ने हाहाकार मचा रखा है। राज्यभर में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या एक लाख को पार कर गई है। प्रदेश के चार बड़े शहरों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में कोरोना ने सबसे ज्यादा कहर बरपाया है। राज्य के कुल एक्टिव मामलों के 42 फीसदी मरीज इन चार शहरों से हैं। 

कोरोना के मामलों को देखें तो राज्य के इन चार बड़े शहरों में एक्टिव केस बढ़े हैं। इसका कारण यह है कि नए मरीजों की तुलना में ठीक होने वालों की संख्या बेहद कम है। इन शहरों को मिलाकर बीते 24 घंटे में 2,513 मरीज रिकवर हुए हैं, जबकि नए मरीजों की संख्या 4,722 है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक राजधानी भोपाल में सक्रिय मामलों की संख्या में लगातार दूसरे दिन बढ़ोतरी हुई है और फिलहाल इनकी संख्या 13 हजार 192 है।

भोपाल में शनिवार को 1,556 नए कोरोना केस दर्ज किए गए हैं, जबकि ठीक होने वालों की संख्या महज 1,302 है। स्वास्थ्य विभाग ने भोपाल में कल 7 मरीजों के मौत होने की पुष्टि की है। इंदौर में 1,679 नए मामले सामने आए जबकि ठीक होने वालों की संख्या महज 1,301 है। यहां भी 7 मरीजों के मौत होने की पुष्टि हुई है। ग्वालियर में 861 संक्रमित केस मिले जबकि 274 लोग रिकवर हुए और 6 कि मौत हुई। जबलपुर की बात की जाए तो यहां कोरोना ने बीते 24 घंटे में सारे रिकॉर्ड तोड़ दिया है। जबलपुर में 926 नए मामले आए और 636 लोग ठीक हुए। यहां सक्रिय मामलों की संख्या 6 हजार 42 है।

यह भी पढ़ें: भारत जैसे देशों को नहीं देना चाहिए वैक्सीन का फॉर्मूला, बिल गेट्स की ओछी टिप्पणी

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इन चार शहरों में आईसीयू बेड्स की संख्या बढ़ाने का फैसला लिया। इसके लिए निजी अस्पतालों की मदद ली जाएगी। साथ ही ज्यादा पैसे वसूलने वाले करीब 72 अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई भी की गई है। सरकार ने करीब 37 लाख गरीब परिवारों को पांच महीने का राशन मुफ्त देने का निर्णय लिया है।