जून के महीने में औसत से 35 प्रतिशत ज्यादा हुई बारिश, 8 जिलों को अब भी झमाझम का इंतजार

प्रदेश में वर्तमान में कोई सिस्टम एक्टिव नही होने से मानसूनी बारिश पर लगा ब्रेक, जुलाई के पहले हफ्ते में बारिश होने की उम्मीद, अगले 24 घंटो में कुछ जिलों में होगी हल्की वर्षा, ग्वालियर-चंबल क्षेत्र को करना होगा बारिश के लिए इंतजार

Updated: Jun 30, 2021, 06:06 PM IST

जून के महीने में औसत से 35 प्रतिशत ज्यादा हुई बारिश, 8 जिलों को अब भी झमाझम  का इंतजार
Photo Courtesy: Hindustan

भोपाल। मध्यप्रदेश के कई जिलों में आषाढ़ के महीने में लू चल रही है। भोपाल, ग्वालियर, इंदौर समेत प्रदेश के कई जिलों में कई दिनों से बारिश नहीं होने से लोगों को गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। मानसून सुस्त हो गया है, यह केवल मध्य प्रदेश में नहीं बल्की दिल्ली हरियाणा समेत अन्य राज्यों का यही हाल है। भोपाल में तापमान में बढ़ोतरी देखी जा रही है। ग्वालियर देश का चौथा सबसे गर्म शहर रहा यहां 44 डिग्री तापमान दर्ज किया गया।  

मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश में जुलाई आते ही मौसम करवट लेगा और एक बार फिर मानसूनी बारिश होगी जिससे लोगों को गर्मी से राहत मिलने की संभावना है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटो में भोपाल, जबलपुर, उज्जैन, होशंगाबाद, इंदौर संभाग के जिलों में गरज चमक के साथ वर्षा का चेतावनी जारी की है। ग्वालियर-चंबल अंचल को फिलहाल गर्मी से निजात मिलती नहीं दिख रही है। इस इलाके में कोई वेदर सिस्टम नहीं बन रहा है जिससे बारिश हो। जबकि अन्य जिलों में जुलाई महीने में एक बार फिर से मानसूनी बारिश होने की संभावना जताई जा रही है।

प्रदेश के कई जिले अब भी अच्छी बरसात के लिए तरस रहे हैं। पन्ना, भिंड, ग्वालियर, श्यौपुर, धार, अलीराजपुर, बड़वानी, खरगोन को मानसूनी बरसात का इंतजार है। मध्यप्रदेश के 44 जिलों में जून में होने वाली बारिश का कोटा पूरा हो चुका है। 8 जिलों को छोड़कर अन्य 44 जिलों में भरपूर बारिश हो चुकी है। प्रदेश में जून महीने में 35 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है।