मध्य प्रदेश में यूथ कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव का एलान

उप चुनाव में हार के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस में संगठन के स्तर पर पहली बड़ी घोषणा, 24 और 25 नवंबर को है नामांकन की तारीख़, मतदान का दिन अभी तय नहीं

Updated: Nov 21, 2020, 06:55 PM IST

मध्य प्रदेश में यूथ कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव का एलान

भोपाल। मध्य प्रदेश में युवा कांग्रेस के नए अध्यक्ष के लिए चुनाव की घोषणा हो गई है। यानी मध्य प्रदेश कांग्रेस की युवा इकाई को जल्द ही नया अध्यक्ष मिलने जा रहा है। पार्टी ने इसके लिए नामांकन की तारीख भी फाइनल कर ली है। राज्य के उपचुनाव में कांग्रेस की हार के बाद ये संगठन के स्तर पर पहला बड़ा एलान है। 

इंडियन यूथ कांग्रेस की वेबसाइट पर जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक 24 और 25 नवंबर को उम्मीदवार अपना नॉमिनेशन कर सकते हैं। नामांकन पत्रों की जांच और ऑब्जेक्शन के लिए 26 नवंबर की तारीख तय की गई है। 28 नवंबर को योग्य पाए गए उम्मीदवारों को सिंबल एलॉट कर दिया जाएगा। दिलचस्प बात यह है कि इस नोटिफिकेशन में चुनाव की तारीख जारी नहीं की गई है।

और पढ़ें: भोपाल, इंदौर समेत मध्य प्रदेश के 5 बड़े शहरों में आज रात से नाइट कर्फ़्यू

रिपोर्ट्स के मुताबिक पार्टी हाईकमान ने चुनाव की तारीख अब तक तय नहीं की है। इसका कारण यह बताया जा रहा है कि यह चुनाव किस तरीके से होगा इस बात पर सहमति नहीं बन पाई है। बता दें कि बीते दिनों राजस्थान में यूथ कांग्रेस का चुनाव ऑनलाइन माध्यम से किया गया था। तब ऐसे आरोप लगने की वजह से विवाद खड़ा हो गया था कि हैकर्स की मदद से चुनाव में हेरफेर किया गया है। विवाद बढ़ता देख शीर्ष नेतृत्व ने निर्वाचित अध्यक्ष को हटा दिया था। इसलिए अगर ऑनलाइन तरीके से चुनाव होता है तो मध्य प्रदेश में भी ऐसा कोई विवाद खड़ा हो सकता है। इसी आशंका को देखते हुए पार्टी यह रिस्क नहीं लेना चाहती है।

कौन हैं प्रमुख दावेदार

यूथ कांग्रेस अध्यक्ष के लिए चुनाव का नोटिफिकेशन जारी होने के साथ ही इस पद के कई दावेदारों का नाम  सामने आने लगा है। इनमें विपिन वानखेड़े, विवेक त्रिपाठी, विक्रांत भूरिया और अजित बैरासी रेस में सबसे आगे चल रहे हैं।

विपिन वानखेड़े

विपिन वानखेड़े का नाम चर्चा में सबसे आगे इसलिए है क्योंकि 10 दिन पहले ही उन्होंने विधानसभा उप चुनाव जीता है। वानखेड़े पार्टी के नए युवा तुर्क बनकर उभरे हैं। जिस उपचुनाव में पार्टी को हार का सामना करना पड़ा, उस दौर में भी वह अपनी आगर-मालवा को सीट बचाने में कामयाब रहे। इसलिए पार्टी में नई जिम्मेदारी संभालने के लिए उन्हें उपयुक्त माना जा सकता है। खास बात यह है कि वह फिलहाल कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं।

विवेक त्रिपाठी

यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष पद की रेस में एनएसयूआई से एक और नाम सामने आ रहा है। ये नाम है विवेक त्रिपाठी का। विवेक फिलहाल मध्य प्रदेश में एनएसयूआई के प्रवक्ता की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। माना जाता है कि विवेक त्रिपाठी संगठन के कामकाज के बारे में अच्छी समझ रखते हैं। तकरीबन एक दशक से छात्रों के बीच रहकर काम कर रहे विवेक त्रिपाठी कांग्रेस से जुड़े युवा वर्ग के बीच काफी लोकप्रिय हैं, साथ ही छात्रों के लिए संघर्ष में उन्होंने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया है। हालांकि कुछ लोग ऐसा भी मान रहे हैं कि एनएसयूआई से कोई एक ही उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरेगा। अगर ऐसा होता है तो वानखेड़े और त्रिपाठी में से कोई एक ही उम्मीदवार चुनाव लड़ेगा। 

विक्रांत भूरिया

विक्रांत भूरिया दिग्गज कांग्रेस नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के बेटे हैं। वह अपने विधानसभा क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय हैं और साल 2018 में झाबुआ से कांग्रेस ने उन्हें विधानसभा उम्मीदवार भी बनाया था लेकिन वह जीतने में सफल नहीं हो सके थे। विक्रांत आदिवासी समाज से आते हैं और कहा जा रहा है कि वह कमलनाथ की भी पसंद हैं। हालांकि संगठन के स्तर पर काम करने का अनुभव उनके पास ज्यादा नहीं है।

अजीत बैरासी

कांग्रेस नेता प्रेमचंद गुड्डू के बेटे अजित बैरासी भी अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल हैं। वह अलोट विधानसभा से बीजेपी के टिकट पर चुनाव भी लड़ चुके हैं जहां उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। उनके पिता को कांग्रेस ने तुलसी सिलावट के खिलाफ सांवेर से उपचुनाव में उतारा था, लेकिन वह भी जीतने में सफल नहीं हो सके। संगठन के स्तर पर देखा जाए तो बैरासी कांग्रेस संगठन के लिए एक नया चेहरा हैं, चूंकि वह इसके पहले बीजेपी के साथ थे और उपचुनाव के दौरान ही वह पार्टी में शामिल हुए हैं।

बता दें कि मध्य प्रदेश में यूथ कांग्रेस के 3 लाख से ज्यादा सदस्य हैं जो चुनाव के दौरान वोटिंग करेंगे। पिछले दो साल से यह चुनाव टाला जा रहा है, नतीजतन विधायक कुणाल चौधरी ही पांच वर्षों से इस पद पर बने हुए हैं जबकि कार्यकाल तीन वर्षों का ही होता है।