जबलपुर में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए जागरुक करने गए डॉक्टर पर भड़की ग्रामीण महिलाएं, वीडियो वायरल

जबलपुर सांसद के गोद लिए गांव कोहला में कोरोना टीका लगाने गए डॉक्टर को महिलाओं ने सुनाई खरी खोटी, डॉक्टर को घर से निकाला, महिला का आरोप वैक्सीन से हुई है उनके परिजन की मौत

Updated: Jun 10, 2021, 05:56 PM IST

जबलपुर में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए जागरुक करने गए डॉक्टर पर भड़की ग्रामीण महिलाएं, वीडियो वायरल
Photo courtesy: twitter

जबलपुर। ग्रामीण इलाकों में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए डॉक्टरों को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। गांवों में लोग डॉक्टरों से अभद्रता तक करने पर उतारू हो गए हैं। ऐसा ही एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसके लिए दावा किया जा रहा है कि वह जबलपुर सांसद राकेश सिंह द्वारा गोद लिए गांव कोहला का है। बुधवार को कोरोना वैक्सीनेशन के लिए लोगों में जागरुकता लाने के लिए डॉक्टरों की टीम पहुंची तो गांव की महिलाओं ने जमकर अपशब्द कहे। महिला ने डॉक्टर को घर से निकाल दिया। बोली अगर आप यहां से गए नहीं तो आपको गालियां देंगे। महिलाओं ने आव देखा ना ताव उन्हें देसी अंदाज में खरी खोटी सुनाई। जब डॉक्टरों ने कहा कि पुलिस आएगी और समझाएगी तब महिलाओं ने कहा कि वे पुलिस से भी नहीं डरती।

 

 

महिलाओं ने कहा कि कोरोना वैक्सीन से उनके यहां मौत हो गई है। जब डॉक्टर ने समझाने की कोशिश करते हुए कहा कि उनके परिजन की मौत किसी और बीमारी से हुई होगी तब महिलाओं ने उन्हें जमकर लताड़ा। जब महिला से नाम पूछा गया तब उसने कहा कि उसका कुछ नाम नहीं है।

डॉक्टर अमित जैन महिलाओं को समझाने की कोशिश करते रहे लेकिन महिलाओं ने तो जैसे कुछ ना सुनने की कसम खा रखी थी। वे कुछ सुनने को तैयार ही नहीं थीं। वे बार-बार उन्हें घर से निकल जाने के लिए कहती रहीं। दरअसल जबलपुर में ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर के निर्देशानुसार रैपिड रिस्पॉन्स टीम के नोडल अधिकारी डॉक्टर अमित जैन जबलपुर सांसद राकेश सिंह के गांव कोहला में लोगों को कोरोना वैक्सीनेशन के लिए जागरुक करने गए थे। तभी कुछ महिलाओं ने उनके साथ अभद्रता की जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

देश के साथ-साथ प्रदेश में भी कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए युद्ध स्तर पर टीकाकरण हो रहा है। लेकिन  गांवों में लोग कोरोना वैक्सीन नहीं लगवा रहे हैं। ग्रामीण वैक्सीनेशन टीमों भगा दे रहे हैं। ग्रामीणों का टीका न लगवाना शासन और स्वास्थ्य विभाग के लिए मुश्किलें खड़ी कर रहा है।

और पढ़ें: टीका लेने वाले लोगों का एमपी पुलिस कर रही है सम्मान, लोगों को लगाया देशभक्ति का बैज

दरअसल कोरोना वैक्सीन को लेकर लोगों में कई गलतफहमियां हैं। ग्रामीणों का कहना है कि वैक्सीन लगवाने से लोग नपुंसक हो जाते हैं। वैक्सीन लगवाकर कई लोग मर गए हैं। उनका कहना है कि अगर वैक्सीन सही है तो फिर इसे लगवाने के बाद भी लोगों को कोरोना क्यों हो रहा है। जबकि डॉक्टर उन्हें समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि वैक्सीन लगवाने से किसी की मौत नहीं हो रही है, बल्की मौत का खतरा कम हो रहा है।