100 MLAs लाओ और मुख्यमंत्री बन जाओ, अखिलेश यादव ने यूपी के दोनों डिप्टी सीएम को दिया खुला ऑफर

विधानसभा चुनाव में जनता ने समाजवादी सरकार बनाने के लिए वोट किया था, मगर जिनकी सभाओं में कुर्सियां खाली रहती थीं, वे तमाम हथकंडे अपनाकर सत्ता में आ गए: अखिलेश यादव

Updated: Dec 02, 2022, 08:50 AM IST

100 MLAs लाओ और मुख्यमंत्री बन जाओ, अखिलेश यादव ने यूपी के दोनों डिप्टी सीएम को दिया खुला ऑफर

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यूपी के दोनों डिप्टी सीएम को एक विशेष ऑफर दिया है। अखिलेश ने उन्हें कहा है कि आप 100 विधायक लेकर आओ और सपा के समर्थन से मुख्यमंत्री बन जाओ।

दरअसल, रामपुर विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव को लेकर अखिलेश यादव सपा प्रत्याशी के समर्थन में गुरुवार को प्रचार करने गए थे। यहां एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि यूपी के दोनों उपमुख्यमंत्री राज्य का मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं।

अखिलेश ने आगे कहा, 'इसलिए हमने तो उनको खुला ऑफर दिया है कि 100 विधायक ले आओ, हम समर्थन देंगे। सीएम तुम बन जाना, हम बाहर से समर्थन देंगे।' समाजवादी पार्टी मुखिया ने कहा कि एक उपमुख्यमंत्री की स्थिति यह है कि वह किसी डॉक्टर का तबादला भी नहीं कर सकते हैं। दूसरे डिप्टी सीएम साहब का विभाग बदल दिया गया है। उनको ऐसा विभाग दे दिया गया है, जिसमें बजट ही नहीं है।'

यह भी पढ़ें: मंत्री पद और बंगला चाहते थे सिंधिया, इसीलिए छोड़ी कांग्रेस: उज्जैन में बोले जयराम रमेश

अखिलेश ने आगे कहा, 'जब मैं सीएम था तो उस वक्त अभी जो सीएम हैं, उनकी एक फाइल मेरे पास आई थी, जिसमें उनके खिलाफ केस की सिफारिश की गई थी। मैंने वह फाइल लौटा दी थी। अगर किसी को विश्वास नहीं हो तो पूछ लेना उस वक्त के अधिकारियों से। हम समाजवादी लोग बदले की भावना से काम नहीं करते हैं।'

अखिलेश यादव ने बीजेपी द्वारा चुनाव में हेरफेर की ओर इशारा करते हुए कहा कि पंचायत चुनाव में भी जनता ने जिन्हें हराया था, वे बेईमानी कर कुर्सी पर बैठ गए। विधानसभा चुनाव में भी जनता ने समाजवादी सरकार बनाने के लिए वोट किया था, मगर जिनकी सभाओं में कुर्सियां खाली रहती थीं, वे तमाम हथकंडे अपनाकर सत्ता में आ गए।

अखिलेश ने कहा, 'आप लोग रामपुर उपचुनाव में समाजवादी पार्टी को जिताइए। 2024 में बदलाव आएगा। उसके बाद यूपी में बीजेपी की सरकार नहीं बचेगी। रामपुर का उपचुनाव सिर्फ एक विधानसभा का चुनाव नहीं है। यह बीजेपी सरकार को हिलाने का चुनाव है। सत्ता में बैठकर जो लोग अन्याय कर रहे हैं, वे हम लोगों को इतना मजबूर न कर दें कि जब हम सरकार में आ जाएं तब वही कार्रवाई करनी पड़े, जो ये लोग कर रहे हैं।'