कोरोना की वैक्सीन कब,कहां, किसे और कैसे लगेगी, यहां जानिए

पहले चरण में हेल्थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स, 50 वर्ष से ज़्यादा उम्र वाले लोगों और कोरोना से प्रभावित इलाक़ों में टीकाकरण किया जाएगा, इसके बाद बाक़ी लोगों का टीकाकरण होगा

Updated: Jan 03, 2021, 11:18 PM IST

कोरोना की वैक्सीन कब,कहां, किसे और कैसे लगेगी, यहां जानिए
Photo Courtesy : Pharmaceutical Technology

नई दिल्ली। भारत में दवाओं को मंजूरी देने वाली संस्था ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका और भारत बायोटेक के बनाए कोरोना के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंज़ूरी दे दी है। DCGI ने रविवार को इसका एलान किया। संस्था ने दावा किया है कि दोनों वैक्सीन 100 प्रतिशत सुरक्षित हैं। आइए जानते हैं कि कोरोना के ये टीके किसे, कब, कहां और कैसे लगाए जाएंगे।

सबसे पहले टीकाकरण किसका किया जाएगा 

1. हेल्थकेयर वर्कर्स 
सबसे पहले टीकाकरण सरकार और गैर सरकारी अस्पतालों में काम करने वाले लगभग एक करोड़ हेल्थकेयर वर्कर्स का किया जाएगा। ऐसा नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ओन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर कोविड 19 (NEGVAC) की सिफारिश पर किया जाएगा। टीकाकरण का सबसे पहले लाभ लेने वाले हेल्थकेयर वर्कर्स को भी श्रेणियों में विभाजित किया गया है। जिसमें फ्रंटलाइन हेल्थ और चाइल्ड डेवलपमेंट सर्विसेज वर्कर्स, नर्सेस, सपोर्ट स्टाफ, मेडिकल ऑफिसर्स, पैरामेडिकल स्टाफ और छात्र शामिल हैं। 

2. फ्रंटलाइन वर्कर्स 

हेल्थकेयर वर्कर्स के बाद लगभग दो करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण किया जाएगा। इसमें केंद्रीय पुलिस विभाग, आर्म्ड फोर्सेस, होम गार्ड, जेल में कार्यरत कर्मचारियों के साथ वैक्सीन की प्रक्रिया में काम करने वाले राजस्व अधिकारियों का भी टीकाकरण किया जाएगा। राज्य सरकार, रक्षा मंत्रालय, गृह मंत्रालय, शहरी मामलों के मंत्रालय से जुड़े कर्मचारियों का भी टीकाकरण इसी चरण में किया जाएगा। 

3. 50 वर्ष से ज़्यादा उम्र के व्यक्ति 
इस चरण में लोगों को दो श्रेणियों में विभाजित किया जाएगा। पहले 60 से ज़्यादा उम्र के व्यक्ति तो वहीं दूसरी श्रेणी 50 से 60 की बीच की उम्र वाले व्यक्तियों की होगी।  इस श्रेणी के तहत आबादी की पहचान करने के लिए लोकसभा और विधान सभा चुनावों के लिए नवीनतम मतदाता सूची का उपयोग टीकाकरण अभियान के लिए किया जाएगा। 

4. उच्च कोविड संक्रमण वाले क्षेत्र 
राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के पास यह सुविधा होगी कि वे कोविड से सबसे ज़्यादा संक्रमित क्षेत्रों का चुनाव NEGVAC द्वारा निर्धारित किए गए मापदंडों के आधार पर कर सकें। 

5. बाकी बचे लोग 
 प्राथमिकता के आधार पर निर्धारित इन सभी श्रेणियों के टीकाकरण के बाद शेष बचे लोगों का टीकाकरण किया जाएगा। इनका टीकाकरण वैक्सीन की उपलब्धता के आधार पर किया जाएगा। 


वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे होगा 

1. इसके लिए आपको COWIN वेबसाइट पर खुद से रजिस्ट्रेशन करना होगा। 
2. वेबसाइट पर सरकारी पहचान पत्र या आधार के ज़रिए सत्यापन करना होगा। यह बायोमेट्रिक्स, डेमोग्राफिक्स या ओटीपी के ज़रिए हो सकता है।  
3. रजिस्ट्रेशन होते ही टीकाकरण के लिए एक तिथि और समय आपको अलॉट कर दिया जाएगा। 
4. हां, लेकिन टीकाकरण के लिए प्री रजिस्ट्रेशन की ही व्यवस्था है, कोई स्पॉट रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था नहीं है। 
5. COWIN सिस्टम में टीकाकरण के लिए पूर्णतः जवाबदेह स्थानीय जिला प्रशासन होगा। सत्र प्रबंधन से लेकर टीकाकरण के लिए जगह अलॉट करने की पूरी ज़िम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी। खुद CoWIN में एक इनबिल्ट मॉनिटरिंग और रिपोर्टिंग तंत्र होगा। 

वैक्सीन के लिए आपको कहां जाना होगा 
टीकाकरण को अंजाम देने के लिए सरकारी और गैर सरकारी स्वस्थ्य सुविधा केंद्रों को चुना गया है। इसके साथ ही स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों के अलावा स्कूल, कम्युनिटी हॉल इत्यादि जैसी जगहों पर भी टीकाकरण किया जाएगा। इसके साथ ही दूर दराज के इलाकों तथा अंतर्राष्ट्रीय सरहद के क्षेत्रों में स्पेशल टीम का गठन किया जाएगा जो कि जिला प्रशासन के साथ सामंजस्य स्थापित कर टीकाकरण की प्रक्रिया को अंजाम देगी। 

टीकाकरण की प्रक्रिया क्या होगी 
टीकाकरण प्रक्रिया के लिए तीन कमरे होंगे। पहला,  प्रतीक्षालय - जहां टीका लगाने से पहले कोई प्रतीक्षा करेगा; दूसरा, टीकाकरण कक्ष - जहाँ टीका लगाया जाएगा और तीसरा ऑब्जरवेशन रूम जहाँ वैक्सीन प्राप्त करने वाले 30 मिनट के बाद लाभार्थी को देखा जाएगा। 

आपको वैक्सीन कौन देगा 
टीकाकरण की प्रक्रिया के दौरान कुल पांच अधिकारी मौजूद रहेंगे। हर अधिकारी का दायित्व अलग होगा। 

टीकाकरण अधिकारी 1: पंजीकरण की पूर्व जांच के लिए
टीकाकरण अधिकारी 2: प्रमाणीकरण के लिए
टीकाकरण अधिकारी 3: टीका देने का प्रभारी। चूंकि यह एक इंट्रामस्क्युलर वैक्सीन है, इसलिए एक प्रशिक्षित पेशेवर वैक्सीन का प्रशासन करेगा।
टीकाकरण अधिकारी 4 और 5: भीड़ प्रबंधन के प्रभारी और 30 मिनट का ऑब्जरवेशन इनके ज़िम्मे होगा।