आमिर खान और किरण राव जैसा है शिवसेना और बीजेपी का रिश्ता, फडणवीस के बयान पर संजय राउत ने दी प्रतिक्रिया

देवेंद्र फडणवीस ने हाल ही में कहा था कि शिवसेना और बीजेपी भले ही अलग अलग हों लेकिन दोनों ही दलों के बीच कोई दुश्मनी नहीं है

Publish: Jul 05, 2021, 02:46 PM IST

आमिर खान और किरण राव जैसा है शिवसेना और बीजेपी का रिश्ता, फडणवीस के बयान पर संजय राउत ने दी प्रतिक्रिया
Photo Courtesy : DNA India

मुंबई। महाराष्ट्र की सियासत में पिछले कई दिनों से सत्ता को लेकर सुगबुगाहट तेज़ है। शिवसेना की पूर्व सहयोगी रही बीजेपी के साथ शिवसेना के बनते मधुर संबंध की काफी चर्चा है, जिसको लेकर राज्य में एक बार फिर किसी सियासी उलटफेर की अटकलें तेज़ हैं। इसी बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणविस के एक हालिया बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि शिवसेना और बीजेपी का रिश्ता आमिर खान और किरण राव के रिश्ते के जैसा है।  

शिवसेना और बीजेपी भारत और पाकिस्तान की तरह नहीं हैं  

संजय राउत ने फडणविस के बयान पर कहा है कि हम भारत और पाकिस्तान नही हैं। आमिर खान और किरण राव को देखिए, हम उनकी तरह हैं। शिवसेना नेता ने आगे कहा कि भले ही हमारे राजनीतिक रास्ते अलग हों लेकिन हमारी दोस्ती वैसी ही है। इससे पहले देवेंद्र फडणविस ने कहा था कि भले ही हमारे बीच मतभेद हों लेकिन हम एक दूसरे के दुश्मन नहीं हैं।  

यह भी पढ़ें : आमिर खान और किरण राव ने तलाक का लिया फैसला

अब संजय राउत के बयान के बाद सियासी अटकलों को और भी हवा लगने लगी है। हालांकि यह पहली मर्तबा नहीं है जब संजय राउत ने बीजेपी के साथ शिवसेना के रिश्तों को लेकर कोई नरमी भरा बयान दिया हो। पिछले वर्ष सितंबर के महीने में जब संजय राउत ने देवेंद्र फडणविस से मुलाकात की थी, उस दौरान भी उन्होंने यही कहा था कि शिवसेना की बीजेपी के साथ कोई दुश्मनी नहीं है।  

यह भी पढ़ें : शिवसेना के विधायकों को तोड़ने में एनसीपी की मदद कर रही है केंद्र सरकार, पार्टी MLA ने लिखी उद्धव ठाकरे को चिट्ठी

लेकिन पिछले डेढ़ महीने में लगातार ऐसे घटनाक्रम घटित हुए हैं, जिससे नए सियासी अटकलों की गुंजाइश बनी है। उद्धव ठाकरे और प्रधानमंत्री मोदी के बीच हाल ही में मुलाकात हुई थी। इसके बाद शिवसेना विधायक प्रताप सरनाइक ने सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखकर वापस बीजेपी के साथ जाने की अपील की थी। शिवसेना विधायक ने यह आरोप लगाया था कि बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व शिवसेना के विधायकों को तोड़ने में एनसीपी की मदद कर रहा है।