हमारे कार्यकर्ता हिंसा के खिलाफ लोकतांत्रिक मूल्यों से लड़ रहे हैं: BJP के स्थापना दिवस में पीएम मोदी

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 42 वें स्थापना दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने BJP कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि बीजेपी लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए संघर्ष करती रहेगी

Updated: Apr 06, 2022, 11:28 AM IST

हमारे कार्यकर्ता हिंसा के खिलाफ लोकतांत्रिक मूल्यों से लड़ रहे हैं: BJP के स्थापना दिवस में पीएम मोदी
Photo Courtesy: Twitter

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी आज अपना 42वां स्थापना दिवस मना रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि हमारे कार्यकर्ता हिंसा के खिलाफ लोकतांत्रिक मूल्यों से लड़ रहे हैं। इस दौरान उन्होंने विपक्षी दल कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए परिवारवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया।

पीएम मोदी ने कहा कि, 'केंद्रीय स्तर पर और अलग अलग राज्यों में कुछ राजनीतिक दल हैं जो सिर्फ अपने परिवार के हितों के लिए काम करते हैं।परिवारवादी सरकारों में परिवार के सदस्यों का स्थानीय निकाय से लेकर संसद तक में दबदबा रहता है। ये लोग भले ही अलग अलग राज्यों में हो, लेकिन परिवारवाद के तार से जुड़े रहते हैं। एक दूसरे के भ्रष्टाचार को ढककर रखते हैं। परिवारवादी पार्टियों ने देश के युवाओं को भी कभी आगे नहीं बढ़ने दिया, उनके साथ हमेशा विश्वासघात किया है। और आज हमें गर्व होना चाहिए कि आज भाजपा ही इकलौती पार्टी है जो इस चुनौती से देश को सजग कर रही है, सतर्क कर रही है।'

पीएम मोदी ने कहा कि, 'देश के युवा अब ये समझने लगे हैं कि किस तरह परिवारवादी लोकतंत्र की सबसे बड़ी दुश्मन हैं। लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ करने वाली ये पार्टियां, संविधान और संवैधानिक व्यवस्थाओं को भी कुछ नहीं समझतीं। ऐसी पार्टियों से आज भी हमारे कार्यकर्ता अन्याय, अत्याचार और हिंसा के खिलाफ लोकतान्त्रिक मूल्यों के साथ लड़ रहे हैं। इनमें से कई कार्यकर्ताओं को अपना बलिदान तक देना पड़ा है। हम सब हमारे इन कार्यकर्ताओं के परिवारों की पीड़ा में शामिल हैं। मैं सभी कार्यकर्ताओं को विश्वास दिलाता हूं कि भाजपा ऐसे राज्यों में लोकतांत्रिक मूल्यों की स्थापना के लिए संघर्ष करती रहेगी।'

यह भी पढ़ें: महंगाई का ट्रिपल अटैक, पेट्रोल-डीजल के साथ ही आज सीएनजी की कीमतें भी बढ़ीं

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि, 'हमारे देश में दशकों तक कुछ राजनीतिक दलों ने सिर्फ वोटबैंक की राजनीति की। कुछ लोगों को ही वायदे करो, ज्यादातर लोगों को तरसाकर रखो, भेदभाव-भ्रष्टाचार ये सब वोटबैंक की राजनीति का साइड इफेक्ट था। लेकिन भाजपा ने इस वोटबैंक की राजनीति को ना सिर्फ टक्कर दी है, बल्कि इसके नुकसान, देशवासियों को समझाने में भी सफल रही है। आज देश में ऐसी सरकार है जिसकी वैचारिक निष्ठा अंत्योदय में है। गरीबों, दलितों, पिछड़ों, महिलाओं के हितों के लिए, उनके उत्थान के लिए काम करना, ये हमारी पार्टी के मूल संस्कार हैं।'

उन्होंने आगे कहा कि, 'आज गरीबों, दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों के साथ ही महिलाएं भाजपा के पक्ष में खड़ी हुई हैं, वो नए युग की ताकत का प्रतिबिंब है।पिछले कई चुनावों में हमने लगातार देखा है, भाजपा का विजय तिलक करने के लिए सबसे आगे हमारी माताएं-बहनें आती हैं। आज देश जमीन से जुड़े तमाम अभियानों को आगे बढ़ा रहा है और भाजपा के कार्यकर्ता के रूप में जमीन पर उनके सारथी आप ही हैं।'