Priyanka Gandhi: बहुत परेशान हैं UP के युवा, काट रहे कोर्ट कचहरी का चक्कर

Yogi Adityanath: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्य नाथ को लिखा पत्र, 12,460 शिक्षक भर्ती अभ्यर्थियों को तत्काल नियुक्ति पत्र देने की मांग

Updated: Sep 19, 2020 10:12 PM IST

Priyanka Gandhi: बहुत परेशान हैं UP के युवा, काट रहे कोर्ट कचहरी का चक्कर
Photo Courtsey : The Economic Times

लखनऊ। कांग्रेस महासचिव व उत्तरप्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को युवाओं और बेरोजगारी के मुद्दे पर पत्र लिखा है। प्रियंका ने सीएम योगी से 12,460 शिक्षक भर्ती अभ्यर्थियों को तत्काल नियुक्ति पत्र देने की मांग की है। पत्र में उन्होंने कहा है कि प्रदेश के युवा निराश और हताश हैं, इसलिए उनके रोजगार के हक का सम्मान करते हुए तत्काल नियुक्ति दे दीजिए।

कांग्रेस महासचिव ने सीएम को लिखे पत्र में कहा, 'उत्तरप्रदेश का युवा बहुत परेशान और हताश है। कुछ दिनों पहले ही मैंने 12,460 शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग पर बातचीत की थी। इस शिक्षक भर्ती में 24 जिले शून्य जनपद घोषित थे यानि कि इन 24 जिलों में कोई जगह नहीं खाली थी, मगर इनके बच्चे अन्य जिलों की वैकेंसी के लिए परीक्षा में शामिल हो सकते थे। इन बच्चों ने परीक्षा दी और अच्छे अंकों से पास भी हुए परंतु तीन साल बीत जाने के बाद भी इन प्रतिभावान युवाओं की नियुक्ति नहीं हो पाई है।'

Click: Rahul Gandhi मोदी सरकार भारतीय सेना के साथ है या चीन के साथ

कोर्ट-कचहरी का काट रहे हैं चक्कर

प्रियंका गांधी ने अपने पत्र में लिखा है कि, 'ये युवा मजबूरी में कोर्ट कचहरी के चक्कर काट रहे हैं। इनमें से कई ऐसे बच्चे हैं जिनके जीवन संघर्ष से भरे हैं। इनकी दर्दनाक कहानी सुनकर मुझे बहुत दुःख हुआ। मैं समझ नहीं पा रही हुं कि सरकार ने इनके प्रति एक आक्रामक और निर्मम स्वभाव क्यों बनाया है जबकि यही प्रदेश की भविष्य बनाने वाली पीढ़ी है और सरकार इनके प्रति जवाबदेह है।'

एक तो महामारी, ऊपर से बेरोजगारी

प्रियंका ने कहा है कि प्रदेश के युवा बेहद परेशान और हताश हैं। उन्होंने लिखा, 'ये युवा बहुत परेशान हैं। कोरोना महामारी इनके ऊपर और भी कहर बरपा रही है। एक तो इन्हें नौकरी नहीं मिल रही है ऊपर से इस महामारी में उनके सामने गहरा आर्थिक संकट आ खड़ा हुआ है। कई अभ्यर्थी तो भयानक अवसाद में हैं। उनके ऊपर घर के नमक-तेल और राशन का भी बोझ है। मैं आपसे आग्रह करती हूं कि मानवीय संवेदनाओं को देखते हुए और युवाओं के रोजगार के हक का सम्मान करते हुए कृपया 24 शून्य जनपद के अभ्यर्थियों की तत्काल नियुक्ति कराने का कष्ट करें।'