कांग्रेस ने ट्विटर को लिखा पत्र, मोदी सरकार के 11 मंत्रियों के ट्वीट्स को मैनिपुलेटेड मीडिया करार देने की मांग

कांग्रेस ने ट्विटर को लिखे पत्र में 11 मंत्रियों के ट्वीट के लिंक साझा किए हैं, जिसमें बताया गया है कि कैसे मोदी सरकार के मंत्रियों ने ट्विटर पर कांग्रेस पार्टी के खिलाफ दुष्प्रचार करने का अभियान चलाया है

Updated: May 25, 2021, 07:27 PM IST

कांग्रेस ने ट्विटर को लिखा पत्र, मोदी सरकार के 11 मंत्रियों के ट्वीट्स को मैनिपुलेटेड मीडिया करार देने की मांग
Photo Courtesy: Outlook

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी ने टूलकिट मामले में ट्विटर को पत्र लिखा है। कांग्रेस ने पत्र लिखकर मोदी सरकार के मंत्रियों की ट्विटर से शिकायत की है। कांग्रेस ने अपने पत्र में ट्विटर को मोदी सरकार के कुल 11 मंत्रियों के ट्वीट्स के खिलाफ कार्रवाई करने और उन ट्वीट्स को मैनिपुलेटेड मीडिया करार देने की मांग की है। 

यह भी पढ़ें : दिल्ली और गुरुग्राम में ट्विटर इंडिया के दफ़्तरों पर छापेमारी, ट्विटर पर हो रही है फ़ज़ीहत

कांग्रेस ने ट्विटर को लिखे पत्र में मोदी सरकार के उन मंत्रियों के ट्वीट्स के लिंक साझा किए हैं, जिन ट्वीट्स के ज़रिए कांग्रेस पार्टी के खिलाफ दुष्प्रचार फैलाने का काम किया गया है। कांग्रेस ने जिन मंत्रियों के ट्वीट के लिंक साझा किए हैं, उसमें पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह, रेल मंत्री पियुष गोयल, स्मृति ईरानी, रवि शंकर प्रसाद, प्रहलाद जोशी, धर्मेंद्र प्रधान, रमेश पोखरियाल निशंक, थावरचंद गहलोत, हर्षवर्धन, मुख्तार अब्बास नकवी, गजेंद्र सिंह शेखावत के नाम शामिल हैं।

 

फर्जी टूलकिट के मामले में छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पहले ही रमन सिंह और संबित पात्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। ट्विटर ने भी बीजेपी नेता संबित पात्रा के ट्वीट के ऊपर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग लगा दिया था। इसके बाद केंद्र सरकार ने ट्विटर से मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग हटाने के लिए कहा था। केंद्र सरकार ने ट्विटर को यह तर्क दिया था कि चूंकि टूलकिट मामले की जांच अभी लंबित है, इसलिए इसे मैनिपुलेटेड मीडिया करार नहीं दिया जा सकता। इसके साथ ही सोमवार को दिल्ली पुलिस की टीम ने ट्विटर के दिल्ली और गुरुग्राम स्थित कार्यालयों में छापेमारी भी की।