Jodhpur: 11 पाकिस्तानी शरणार्थियों के शव मिले, हत्या की आशंका

Rajasthan: मृतक परिवार पाक विस्थापित भील समाज का है, कुछ समय पहले ही आए थे पाकिस्तान से जोधपुर

Updated: Aug-09, 2020, 11:22 PM IST

Jodhpur: 11 पाकिस्तानी शरणार्थियों के शव मिले, हत्या की आशंका
courtsey : twitter

जोधपुर। राजस्थान के जोधपुर जिले में 11 पाकिस्तानी शरणार्थियों की शव मिली है। जानकारी के मुताबिक देचू थाना इलाके के लोडता अचलावता गांव के पास खेत में बने मकान से रविवार (09 अगस्त) को एक साथ 11 लोगों के शव मिलने से क्षेत्र में सनसनी मच गई है। बताया जा रहा है ये सभी शव एक ही परिवार के लोगों की हैं जो पाकिस्तान से विस्थापित होकर भारत आर हैं। इनका परिवार कृषि कार्य के लिए खेत में रुके हुआ था। आशंका है कि इनकी हत्या की गई है वहीं कुछ लोग यह भी संभावना जता रहे हैं कि इन्होंने या तो खुदकुशी की है या किसी जहरीली गैस या जहरीला खाना खाने से इनकी मौत हुई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक इस परिवार का मात्र एक सदस्य जीवित बचा है। जीवित बचे 37 वर्षीय केवलराम का कहना है कि वह रात को अपने घर से दूर जाकर सो गया था। सुबह जब वह घर आया तो इन्हें मृत पाकर चिल्लाया जिसके बाद आसपास के खेतों से लोग दौड़कर पहुंचे। बाद में लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दी जिसके बाद मौके पर पहुंचकर प्रशासन ने आसपास के इलाके को सील कर दिया है वहीं जीवित बचे सदस्य से पूछताछ की जा रही है। 

अबतक मिली जानकारी के अनुसार मृतक परिवार पाक विस्थापित भील समाज का है जो कुछ समय पहले ही पाकिस्तान से जोधपुर आया था। ये सभी लोग गांव के खेत में ट्यूबवेल पर काम करते थे और पास में ही बनी झोपड़ी में रहते थे। फिलहाल शवों को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया है जिसकी रिपोर्ट आने के बाद मृत्यु के कारणों को पता लगाया जा सकता है। स्थानीय पुलिस के मुताबिक प्रथमदृष्टया यह मामला जहरखुरानी का लगता है। मृतकों में 2 पुरुष, 4 महिला और 5 बच्चे बताए जा रहे हैं।

मामले पर बीजेपी ने प्रदेश की मौजूदा गहलोत सरकार को निशाने पर लिया है। घटना पर केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने ट्वीट कर कहा, 'जोधपुर देचू में एक दर्जन पाक विस्थापित नागरिकों की मृत्यु अशोक गहलोत की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान है। मृतकों में 2 पुरुष, 4 महिलाएं और 5 बच्चे हैं। एक के बाद एक, प्रदेश की बिगड़ी व्यवस्था की भयावह तस्वीरें सामने आ रही हैं।' उन्होंने सरकार से त्वरित करवाई कर तथ्यों को सामने लाने की मांग की है।