Delhi Metro: पिंक लाइन पर भी जल्द ही दौड़ेगी बिना ड्राइवर की मेट्रो

DMRC के मुताबिक 37 किलोमीटर वाली मैजेंटा लाइन पर बिना ड्राइवर की मेट्रो चलाने के बाद अब 2021 के मध्य तक 59 किमी लंबी पिंक लाइन पर भी ड्राइवरलेस मेट्रो का संचालन शुरू हो जाएगा

Updated: Jan 03, 2021, 11:23 PM IST

Delhi Metro: पिंक लाइन पर भी जल्द ही दौड़ेगी बिना ड्राइवर की मेट्रो
Photo Courtesy : The Financial Express

नई दिल्ली। दिल्ली की लाइफलाइन माने जाने वाली मेट्रो ने इस साल एक और नई शुरुआत करने जा रही है। दिल्ली मेट्रो ने ऐलान किया है कि मैजेंटा लाइन के बाद बहुत जल्द पिंक लाइन पर भी बिना ड्राइवर की मेट्रो दौड़ना शुरू कर देगी। पिंक लाइन पर मजलिस पार्क से शिव विहार तक ड्राइवरलेस मेट्रो चलाने की अनुमति मिल गई है। 

दिल्ली मेट्रो के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल पर ट्वीट के जरिए दी गई जानकारी के मुताबिक, '37 किमी लंबी मैजेंटा लाइन (जनकपुरी वेस्ट - बोटैनिकल गार्डन) पर चालक रहित सेवाएं शुरू करने के बाद, दिल्ली मेट्रो का एक और प्रमुख कॉरिडोर, 59 किमी लंबी पिंक लाइन (मजलिस पार्क - शिव विहार) भी 2021 के मध्य तक ड्राइवर लेस संचालन होगा।' दिल्ली मेट्रो ने इस पहल को मेट्रो रेवोल्यूशन बताया है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली में अब बिना ड्राइवर के दौड़ेगी मेट्रो रेल

बता दें कि बीते सोमवार को ही पीएम मोदी ने ड्राइवरलेस मेट्रो की शुरुआत की थी। देश की इस पहली ड्राइवर लेस मेट्रो ने राजधानी दिल्ली की मैजेंटा लाइन पर बॉटेनिकल गार्डन से जनकपुरी पश्चिम के बीच रफ्तार भरी। सोमवार को इस ऐतिहासिक अध्याय जुड़ने के बाद दिल्ली मेट्रो दुनिया के चुनिंदा मेट्रो सेवाओं में शामिल हो गई है। 

ड्राइवर लेस मेट्रो को कंट्रोल रूम में ही बैठे-बैठे कंट्रोल और ऑपरेट किया जाएगा। इससे मानवीय गलतियों के कारण परिचालन प्रभावित होने की आशंका समाप्त हो जाएगी। मेट्रो का दावा है कि ड्राइवर से एक बार गलती हो सकती है मगर ड्राइवर लेस मेट्रो से किसी हादसे की आशंका नहीं है।

यह भी पढ़ें: अहंकार छोड़कर तीनों काले कानून वापस ले मोदी सरकार

इन दोनों कॉरिडोर (मैजेंटा लाइन और पिंक लाइन) के ड्राइवरलेस होने के बाद दिल्ली मेट्रो का ड्राइवरलेस नेटवर्क रूट करीब 94 किलोमीटर लंबा हो जाएगा, जो दुनियाभर के ड्राइवरलेस मेट्रो नेटवर्क का करीब 9 फीसदी हो जाएगा। दिल्ली मेट्रो फिलहाल 11 रूटों (नोएडा-ग्रेटर नोएडा सहित) पर 390 किलोमीटर के नेटवर्क को संचालित कर रहा है। इन सभी रूटों पर कुल 285 स्टेशन हैं।