लखनऊ में किसान महापंचायत आज, MSP की गारंटी कानून के बिना नहीं रुकेगा आंदोलन

सुबह 10 बजे से शुरू हो रहा है लखनऊ में किसान महापंचायत, दोपहर एक बजे संबोधित करेंगे राकेश टिकैत, कृषि कानूनों की वापसी के बाद किसानों का पहला शक्ति प्रदर्शन

Updated: Nov 22, 2021, 09:41 AM IST

लखनऊ में किसान महापंचायत आज, MSP की गारंटी कानून के बिना नहीं रुकेगा आंदोलन

लखनऊ। कृषि कानूनों की वापसी के बाद आज लखनऊ में किसानों का पहला शक्ति प्रदर्शन होने जा रहा है। लखनऊ में किसान मोर्चा ने आज किसान महापंचायत का कार्यक्रम रखा है। इस महापंचायत में शामिल होने के लिए विभिन्न राज्यों से हजारों की संख्या में किसान पहुंच चुके हैं। महापंचायत सुबह 10 बजे से शुरू हो रही है वहीं दोपहर करीब एक बजे बीकेयू नेता राकेश टिकैत इसे संबोधित करेंगे।

दरअसल, पीएम मोदी द्वारा कृषि क़ानूनों की वापसी के ऐलान के बावजूद किसानों ने पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों को रद्द न करने का फ़ैसला किया है। संयुक्त किसान मोर्चा इस बात का ऐलान भी कर चुकी है। आंदोलनकारी किसान अपनी दूसरी मांग एमएसपी की गारंटी भी चाहते हैं। माना जा रहा है कि इस महापंचायत के बाद किसानों में एक नई ऊर्जा आएगी। इसके बाद 26 नवंबर को गाजीपुर बॉर्डर पर जुटान होगा और 29 नवंबर को दिल्ली के सभी बॉर्डर्स पर बैठे किसान संसद कूच करेंगे।

यह भी पढ़ें: बुधवार को कानूनों की वापसी की मंजूरी दे सकती है मोदी कैबिनेट, आगामी सत्र में रद्द होने हैं तीनों कृषि कानून

महापंचायत शुरू होने से पहले टिकैत ने कहा कि इस रैली का सबसे बड़ा मुद्दा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय टेनि की गिरफ्तारी की मांग है। किसानों ने इस संबंध में पीएम मोदी को पत्र भी लिखा है। टेनि पर सख्त कार्रवाई की मांग बीते दिनों कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और बीजेपी सांसद वरुण गांधी भी कर चुके हैं। दोनों नेताओं ने पीएम मोदी को पत्र भेजा था।

ये हैं किसानों की मुख्य मांगें-

1. लखीमपुर खीरी कांड का आरोपी अजय मिश्रा टेनि को कैबिनेट से बर्खास्त कर जसे गिरफ्तार किया जाए।

2. सभी कृषि उपज पर एमएसपी को किसानों का कानूनी हक बनाया जाए।

3. सरकार किसान आंदोलन के दौरान 700 किसानों की मौत का जिम्मेदारी लेते हुए संसद में मौन धारण करे और मृतक किसानों के परिजनों को उचित मुआवजा देने का ऐलान करे।

4. आंदोलन के दौरान किसानों पर लगाए गए फर्जी मुकदमे तत्काल वापिस लिए जाएं। 

5. केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तावित "विद्युत अधिनियम संशोधन विधेयक, 2020/2021" का ड्राफ्ट वापस लिया जाए।"