जिस रेस्टोरंट का खाना खाकर हुई खून की उल्टियां उस पर लीगल एक्शन लेंगे सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष पहलाज निहलानी

रेस्टोरेंट का खाना खाने के बाद क्रॉनिक फूड पॉइजनिंग की वजह से हुई थीं खून की उल्टियां, 28 दिनों तक मुंबई के अस्पताल में चला इलाज, 5 दिनों तक रहे ICU में, अस्पताल से बाहर आते ही कार्रवाई की तैयारी में फिल्मकार पहलाज निहलानी

Updated: Jun 07, 2021, 09:21 PM IST

जिस रेस्टोरंट का खाना खाकर हुई खून की उल्टियां उस पर लीगल एक्शन लेंगे सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष पहलाज निहलानी
Photo courtesy: The Indian Wire

मुंबई। सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और फिल्मकार पहलाज निहलानी की छुट्टी मुंबई के नानावटी अस्पताल से हो गई है। करीब एक महीना पहले उन्हें एक रेस्टोरेंट का खाना खाने के बाद क्रोनिक फूड पॉइजनिंग हो गई थी। जिसकी वजह से उन्हें खून की उल्टियां हुई थी। और हालत बिगड़ने पर उन्हें 28 दिनों तक नानावटी अस्पताल में रहना पड़ा था। जिसमें से 5 दिनों तक वे ICU में भी रहे।

दरअसल पहलाज निहलानी के घर कुछ मेहमान आए थे, जिसके बाद उन्होंने एक जानेमाने रेस्टोरेंट से खाना आर्डर किया था। जब खाना आया तो उन्होंने पाया की चिकन में गड़बड़ है, लेकिन उसे इग्नोर करते हुए वे खाना खाने लगे, खाना खाने के कुछ घंटों के बाद ही सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष को खून की उल्टियां होने लगी, जिसके बाद उसी बिल्डिंग में रहने वाले उनके बेटे ने उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया। लेकिन मीडिया को कानो-कान खबर नहीं होने दी।

इस बात की जानकारी अस्पताल प्रबंधन के अलावा एक्टर शत्रुघ्न सिन्हा को थी, अब जब पहलाज निहलानी अस्पताल से डिस्चार्ज हो गए हैं तो अब उन्होंने रेस्टोरेंट पर कानूनी कार्रवाई की तैयारी कर ली है।

एक मीडिया हाउस से इंटरव्यू के दौरान पहलाज ने अपने साथ हुए हादसे के बारे में चर्चा की है।उन्होंने बताया कि करीब एक महीने पहले वे घर पर अकेले थे। तभी अचानक से एक फिल्म की यूनीट के कुछ मेंबर्स उनके घर आए थे। घर पर खाना बना हुआ था, लेकिन वह खाना सभी के लिए पर्याप्त नहीं था, इसलिए उन्होंने एक रेस्टोरेंट से सबके लिए खाना ऑर्डर किया था।

पहलाज निहलानी की मानें तो वे कभी बाहर का खाना नहीं खाते, इसलिए उनका खाना घर पर बना है। लेकिन उस समय जो खाना घर पर था वह सभी के लिए पर्याप्त नहीं था। ऐसे में उन्होंने बाहर से खाना ऑर्डर करके मंगवाया। उन्होंने बताया कि उस दौरान चिकन आर्डर किया गया था। जब वो खाना खाने बैठे तो उन्हें लगा की खाने में कुछ गड़बड़ है। लेकिन साथियों ने कहा कि यह ठीक है। जिसके बाद सभी ने चिकन खा लिया। थोड़ी देर बाद सभी चले गए।

पहलाज निहलानी ने बताया कि उन्हें बेचैनी और उल्टी की शिकायत हुई, उन्होंने सोने की कोशिश की जिसके बाद रात लगभग 3 बजे उन्हें खून की उल्टियां हुईं। उन्होंने घबरा कर अपने बेटे को फोन किया। दरअसल उनका बेटा उसी बिल्डिंग में रहता है, बेटे ने ले जाकर उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया।

 अब अस्पताल से डिस्चार्ज के बाद पहलाज निहलानी ने रेस्टोरेंट पर लीगल एक्शन लेने की तैयारी में हैं। उन्होंने कहा है कि 'यह मेरी जिंदगी का अंतिम भोजन हो सकता था। उस रात खाने वाले सभी लोग बीमार थे। पहलाज  निहलानी ने बताया कि उनके अस्पताल में भर्ती होने की खबर को गुप्त रखने का यह एक सोचा-समझा फैसला था।