योगी राज का चहुंमुखी विकास, उद्घाटन के लिए नारियल पटका तो टूट गई सवा करोड़ की सड़क

बिजनौर में सड़क का उद्घाटन करने पहुंची थी बीजेपी विधायक, सवा करोड़ की लागत से बनी सड़क पर जब पटका नारियल तो टूट गई सड़क, नारियल रहा जस का तस, लोग बोले- विकास पागल हो गया

Updated: Dec 03, 2021, 03:57 PM IST

योगी राज का चहुंमुखी विकास, उद्घाटन के लिए नारियल पटका तो टूट गई सवा करोड़ की सड़क
Photo Courtesy: The Print

बिजनौर। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की चोरी की विकास आए दिन सुर्खियों में रहती है। हालांकि, इस बार कुछ ऐसा मामला सामने आया है जिससे हकीकत के विकास के बाद भी सीएम योगी योगी आदित्यनाथ की फजीहत हो रही है। दरअसल, यहां एक सड़क के उद्घाटन के दौरान जब नारियल पटका गया तब नारियल तो जस का तस रह गया लेकिन सड़क जरूर टूट गई।

मामला प्रदेश के बिजनौर जनपद की है। यहां सिंचाई विभाग के देखरेख में नहर की पटरी पर एक करोड़ 16 लाख की लागत से 7 किलोमीटर लंबी सड़क बननी थी। यह सड़क हल्दौर के मुख्य चौराहे से नवादा तुल्ला गांव की ओर नहर के किनारे बनाई जा रही थी। 7 किलोमीटर लंबे इस प्रोजेक्ट में अभी 700 मीटर का ही काम पूरा हो पाया था। 

हालांकि, चुनाव को देखते हुए प्रदेशभर में बीजेपी के नेता जिस तरह धुआंधार उद्घाटन कर रहे हैं, उसी तरह इस सड़क का भी उद्घाटन करने स्थानीय बीजेपी विधायक सूची मौसम चौधरी पहुंच गयीं। चौधरी ने यहां सड़क का विधिवत पूजन किया और फिर उद्घाटन के लिए सड़क पर नारियल दे मारा। लेकिन यहां उल्टा हो गया। नारियल तो नहीं फूटी लेकिन उन्होंने जहां नारियल पटका सड़क की बजरी उखड़ कर बिखर गई।

नारियल पटकने से सड़क टूटता देख बीजेपी विधायक थोड़ी सकपका गयीं और उन्होंने शुभारंभ कार्यक्रम को टाल दिया। लेकिन उन्हें तुरंत ही एहसास हुआ कि इससे उनकी और बीजेपी सरकार की छवि खराब हो गई। फिर क्या था सत्तारूढ़ दल की विद्यायक तुरंत धरने पर बैठ गईं। उन्होंने भ्रष्टाचार का आरोप स्थानीय नेताओं और जनप्रतिनिधियों के बजाए सिंचाई विभाग के अधिकारियों पर मढ़ दिया। 

बीजेपी विधायक ने तमतमाते हुए इस बात की जानकारी बिजनौर कलेक्टर उमेश मिश्रा को दी। इसके बाद वहां अधिकारियों की टीम पहुंची और वे सड़क का नमूना लेकर गए। बीजेपी विधायक ने कहा है कि लैब में जांच के बाद दोषियों पर कार्रवाई होगा। उधर सोशल मीडिया पर यह खबर वायरल होते ही लोग कहने लगे कि उत्तर प्रदेश में विकास पगला चुका है। बता दें कि इसके पहले कई दफा योगी सरकार दूसरे राज्यों का विकास चोरी कर विज्ञापनों में अपना बताते पकड़ी जा चुकी है।