राहुल गांधी के खिलाफ झूठी खबर फैलाने के लिए जी न्यूज ने मांगी माफी, चैनल और BJP नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करेगी कांग्रेस

जी न्यूज ने शुक्रवार को चलाई राहुल गांधी के खिलाफ झूठी खबर, धड़ल्ले से शेयर करने लगे BJP नेता, अब कार्रवाई की तैयारी में कांग्रेस, पवन खेड़ा ने कहा- चैनल, एंकर और उसे प्रसारित करने वाले नेता कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार रहें

Updated: Jul 02, 2022, 12:57 PM IST

राहुल गांधी के खिलाफ झूठी खबर फैलाने के लिए जी न्यूज ने मांगी माफी, चैनल और BJP नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करेगी कांग्रेस

नई दिल्ली। जी न्यूज एक बार फिर विवादों में है। कांग्रेस के खिलाफ प्रोपेगैंडा चलाने के चक्कर में जी न्यूज की इस बार मुश्किलें बढ़ सकती है। कांग्रेस ने  इस चैनल के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है। हालांकि, बवाल बढ़ता देख जी न्यूज ने झूठी खबर के लिए मांगी मांग ली है।

दरअसल, शुक्रवार को राहुल गांधी अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड में पहुंचे थे। बीते दिनों यहां कांग्रेस दफ्तर पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया था। हमलावरों को लेकर पूछे जाने पर राहुल गांधी ने हिंसा का जवाब अहिंसा से देते हुए कहा कि मैं उन्हें बच्चा समझता हूं। उन्होंने कहा कि, 'जिन लड़कों ने उनके ऑफिस में तोड़-फोड़ की वो बच्चे हैं। ये अच्छा नहीं है, लड़कों ने गैर-ज़िम्मेदाराना हरकत की है।'

हालांकि, एक खास विचारधारा को प्रमोट करने वाले जी न्यूज ने इस वीडियो क्लिप को उदयपुर हत्याकांड को लेकर राहुल की प्रतिक्रिया के रूप में प्रसारित किया। जी न्यूज के डीएनए कार्यक्रम के दौरान एंकर रोहित रंजन कहते हैं, 'इस बर्बरता को देश का हर वर्ग सीधे-सीधे कह रहा है कि ये ग़लत है और इसको कड़ी से कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए। राहुल गांधी विपक्ष के सबसे बड़े नेता हैं और उनका कहा सबके सामने बहुत मायने रखता है। लेकिन राहुल गांधी अगर उन आरोपियों को बच्चा कह रहे हैं तो फिर सोचिये कि ये आगे क्या सन्देश लेकर जाता है…क्या कन्हैया को मारने वाला, बेरहमी से उसका क़त्ल करने वाला बच्चा था?'

इसके बाद बीजेपी के सांसद, विधायक और मंत्री इस झूठे वीडियो को प्रचारित करने लगे। पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने लिखा कि, ' सुनिए आतंकी इनके लिए बच्चे हैं, कल इन्हें मासूम कहेंगे, परसों इनके समर्थन में प्रदर्शन करेंगे।' इसी तरह कई जिम्मेदार लोगों ने कांग्रेस और राहुल के खिलाफ दुर्भावना से ग्रसित ट्वीट किया। हालांकि, थोड़े ही देर में इसका सच सामने भी आ गया।

इसके बाद सोशल मीडिया यूजर्स जी न्यूज समेत अन्य बीजेपी नेताओं को आइना दिखाने लगे। झूठ का भंडाफोड़ होते ही जी न्यूज ने अगली सुबह माफी मांग ली। वहीं नेताओं ने ट्वीट डिलीट कर लिए। एंकर राहुल रंजन ने कहा कि ये एक मानवीय भूल थी, जिसके लिए हमारी टीम क्षमा प्रार्थी है। हम इसके लिए खेद जताते हैं।

कांग्रेस मीडिया विभाग के चेयरमैन पवन खेड़ा ने कहा कि, 'हमारी शराफ़त को हमारी कमज़ोरी मानने की ग़लती करने से पहले सोचना चाहिए था। यह मुद्दा यहीं समाप्त नहीं हो जाएगा। वह तमाम भाजपा नेता जिन्होंने राहुल गांधी का फ़ेक विडीओ प्रसारित किया, वे देश भ्रमण को तैयार रहें। उन्हें कई शहरों की अदालतों के चक्कर लगाने होंगे। और जिस ऐंकर व चैनल ने यह झूठ चलाया, वह भी एक कठोर क़ानूनी कार्यवाही के लिए तैयार हो जाए।'