राजीव गांधी किसान न्याय योजना का आगाज

CG Gov: 19 लाख किसानों को चार किस्त में मिलेगा लाभ


Updated: May-21, 2020, 01:30 PM IST

राजीव गांधी किसान न्याय योजना का आगाज
Photo: Twitter Bhupesh Baghel

देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि (rajiv gandhi death anniversary) पर छत्तीसगढ़ में ‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना’ की शुरुआत हुई। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस योजना का उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए शामिल हुए। इस योजना से 19 लाख किसानों को लाभ मिलने का दावा है।

योजना के तहत किसानों के खाते में 5700 करोड़ रुपये भेजे जाने का प्रावधान किया गया है। इसमें धान के किसानों को पहली किस्त के रूप में 1,500 करोड़ रुपये का भुगतान हुआ। छत्तीसगढ़ सरकार इस योजना के तहत खरीफ 2019 से धान और मक्का बोने वाले किसानों को सहकारी समिति के माध्यम से उपार्जित मात्रा के आधार पर अधिकतम 10 हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से सहायता राशि का भुगतान करेगी।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना में धान फसल के लिए 18 लाख 34 हजार 834 किसानों को पहली किस्त के रूप में 1500 करोड़ रूपए की राशि बांटी गई। इसी प्रकार गन्ना फसल के लिए पेराई वर्ष 2019-20 में सहकारी कारखानों द्वारा खरीदे गए गन्ने की मात्रा के आधार पर एफआरपी राशि 261 रूपये प्रति क्विंटल और प्रोत्साहन और सहायता राशि 93.75 रूपये प्रति क्विंटल अर्थात् अधिकतम 355 रूपये प्रति क्विंटल की दर से भुगतान किया जाएगा।

Clickभोपाल में फंसे हैं मजदूर, इन्‍हें ले जाइए

‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना’के तहत छत्तीसगढ़ के 34 हजार 637 किसानों को 73 करोड़ 55 लाख रूपये चार किस्तों में मिलेंगे, जिसमें से पहली किस्त के रूप में 18 करोड़ 43 लाख रुपये आज ही दिए दिए जाने हैं। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य के भूमिहीन कृषि मजदूरों को भी 'न्याय' योजना के दूसरे चरण में शामिल करने का फैसला किया है।

योजना के अन्तर्गत पंजीकृत किसानों के बैंक खाते में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांस्फर के माध्यम से सीधे राशि दी जाएगी। आगे चलकर इस योजना का विस्तार होगा, जिसके तहत खरीफ में धान, मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो- कुटकी, रागी और रबी में गन्ने की फसल को भी सहायता अनुदान दिया जाएगा।