डोंगरगढ़ में मां बम्लेश्वरी मंदिर के रोपवे की ट्रॉली टूटने से हादसा, घायल कर्मचारी की अस्पताल मौत

डोंगरगढ़ के मां बम्लेश्वरी मंदिर में बड़ा हादसा, रोप-वे की गुड्स ट्रॉली टूटी, 60 फीट ऊंचाई से गिरकर 27 वर्षीय कर्मचारी की मौत, ट्रॉली से भेजा जा रहा था कंस्ट्रक्शन का सामान

Updated: Feb 18, 2021, 12:03 PM IST

डोंगरगढ़ में मां बम्लेश्वरी मंदिर के रोपवे की ट्रॉली टूटने से हादसा, घायल कर्मचारी की अस्पताल मौत
Photo Courtesy: Bhaskar

डोंगरगढ़। माता बम्लेश्वरी मंदिर के रोपवे की ट्रॉली टूटने से एक कर्मचारी की मौत हो गई। रोप वे की ट्रॉली उस वक्त अचानक टूट गई, जब वो करीब 60 फीट ऊंचाई पर थी। ट्रॉली में बैठे कर्मचारी इतनी ऊंचाई से गिरकर बुरी तरह घायल हो गए और बाद में उन्होंने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

बुधवार की शाम हुए उस हादसे के दौरान ट्रॉली में मां बम्लेश्वरी ट्रस्ट का 27 वर्षीय कर्मचारी गोपी पडोती गुड्स की ट्राली से सामान लेकर आ रहा था, तभी अचानक ट्रॉली टूटी तो वह 60 फीट से नीचे गिरकर घायल हो गया। रात में उसकी तलाश पहाड़ में की गई और उसे अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 

SDM अविनाश भोई से मिली जानकारी के अनुसार गुड्स ट्रॉली में उतरते वक्त यह हादसा हुआ है। फिलहाल ट्रॉली टूटने के कारणों का पता लगाया जा रहा है। यहां श्रद्धालुओं और गुड्स के लिए अलग-अलग रोप वे का उपयोग किया जाता है।

माता बम्लेश्वरी मंदिर में लगा रोप वे काफी हाइटेक है, इसमें ऑस्ट्रिया से लाया गया रोप लगा है। इसकी लंबाई करीब 1300 मीटर है। इस रोप वे में 150 केवी का एक जनरेटर लगा हुआ है। इसकी मदद से लगभग तीन मिनट में 650 मीटर की चढ़ाई की जाती है। यहां 14 ट्रॉलियों का उपयोग होता है।इसके बारे में कहा जाता है कि रोप वे के सारे सिस्टम ऑटोमेटिक और कंप्रेस्ड हैं। कहीं भी गड़बड़ी होने पर सेफ्टी के लिए ट्रॉलियों के रुकने की बात कही गई थी। लेकिन गड़बड़ी होने पर ट्रॉली अपने स्थान पर नहीं रुकी और कर्मचारी की मौत हो गई। गौरतलब है कि मां बम्लेश्वरी मंदिर में इससे पहले भी कई बार हादसे होते रहे हैं।