अनाथालय की आड़ में मानव तस्करी की आशंका, रायपुर से बरामद किए गए मध्यप्रदेश के 20 बच्चे

रायपुर में बिना परमीशन चल रहा था अनाथालय, मानव तस्करी के शक में पुलिस ने मंडला के 20 बच्चों का किया रेस्क्यू, माता पिता से संपर्क साधने की कोशिश में जुटी पुलिस

Updated: Jul 10, 2021, 06:31 PM IST

अनाथालय की आड़ में मानव तस्करी की आशंका, रायपुर से बरामद किए गए मध्यप्रदेश के 20 बच्चे
Photo Courtesy: zee news

रायपुर। छत्तीसगढ़ में महिला एवं बाल विकास विभाग की बिना परमीशन के अवैध रुप से चलाए जा रहे अनाथ आश्रम का खुलासा हुआ है। रायपुर के इस अवैध अनाथ आश्रम से मध्यप्रदेश के मंडला जिले के 18 बच्चों समेत 20 बच्चों को रेस्क्यू किया गया है। दरअसल शिकायत मिली थी कि रायपुर के राखी थाना इलाके के सेक्टर-19 में एक अनाथ आश्रम का संचालन किया जा रहा है। जिसकी जानकारी विभाग को नहीं थी।

स्थानीय लोगों की शिकायत पर महिला एवं बाल विकास विभाग ने मामले की जांच की। इस जांच में पाया कि संस्था के पास ना तो अनाथ आलय जैसी व्यवस्था थी और ना ही उसने महिला बाल विकास विभाग की परमीशन ले रखी थी। सामान्य से घर में ही अनाथ आश्रम का बैनर लगाकर वहां बच्चों को रखा गया था। यहां लड़कों और लड़कियों को एक ही जगह पर रखा गया था। वहीं बच्चों की सुरक्षा का भी कोई इंतजाम नहीं था। इस आश्रम द्वारा लोगों से दान के रुप में सामान की मांग की जा रही थी।  

बच्चे जमीन पर सोते मिले। यह आश्रम भिलाई के एक फाउंडेशन लाइव शो द्वारा संचालित किया जा रहा था। विभाग को यहां मानव तस्करी का शक है, एक ही जिले के बच्चों का मिलना यहां कई सवाल खड़े कर रहा है।

महिला बाल विकास विभाग ने उस जगह से बच्चों को सरकारी SOS बाल ग्राम में शिफ्ट कर दिया है। लड़कों और लड़कियों को अलग-अलग जगहों में भेज दिया गया है। महिला बाल विकास विभाग की शिकायत पर पुलिस मामले की जांच कर रही है। बच्चों के परिजनों से संपर्क साधने की कोशिश की जा रही है।