छत्तीसगढ़ में नाइट कर्फ्यू, ज्यादा संक्रमण वाले जिलों के सार्वजनिक स्थानों पर कड़ी पाबंदी

रायपुर और रायगढ़ में लगेगा नाइट कर्फ्यू, 4 प्रतिशत से ज्यादा संक्रमण वाले जिलों में स्कूल आंगनबाड़ी, लाइब्रेरी समेत सभी सार्वजनिक केंद्रों, स्वीमिंग पूल, मॉल, सिनेमा, मैरिज पैलेस, होटल, रेस्टोरेंट, ऑडिटोरियम बंद रहेंगे, अन्य जिलों में एक तिहाई क्षमता से खुलेंगे सार्वजनिक स्थान

Publish: Jan 04, 2022, 06:07 PM IST

छत्तीसगढ़ में नाइट कर्फ्यू, ज्यादा संक्रमण वाले जिलों के सार्वजनिक स्थानों पर कड़ी पाबंदी
Photo Courtesy: patrika

रायपुर। बीते 24 घंटों में 698 मरीज मिलने के बाद से प्रदेश सरकार एक बार फिर कोरोना पर सख्त हो गई है। सरकार ने 4% प्रतिशत और उससे ज्यादा संक्रमण वाले जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस में फिलहाल रायपुर और रायगढ़ जिले आ रहे हैं। इन जगहों पर मॉल, स्वीमिंग पूल, सिनेमा घरों, मैरिज पैलेस, होटलों, रेस्टोरेंट और ऑडिटोरियम पर प्रतिबंध लगाने के निर्देश जारी किए गए हैं। वहीं कम संक्रमण वाले जिलों में एक तिहाई क्षमता से सार्वजनिक स्थानों में लोगों को आने दिया जाएगा।

4 प्रतिशत से ज्यादा संक्रमित इलाकों में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू और नॉन कमर्शियल एक्टिविटीज पर सख्ती से प्रतिबंध रहेगा। इन इलाकों में धारा 144 और महामारी अधिनियम के प्रावधानों के तहत कार्रवाई होगी। इन स्थानों में स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्र, लाइब्रेरी, स्वीमिंग पूल मॉल, सिनेमा, स्वीमिंग पूल, मैरिज पैलेस, होटल, रेस्टोरेंट, ऑडिटोरियम बंद रहेंगे। वहीं अन्य जिलों में एक तिहाई क्षमता के साथ ये सभी स्थान खुले रह सकेंगे।

और पढ़ें: छत्तीसगढ़ में कोरोना की तीसरी लहर का कहर, एक दिन में मिले 698 केस, सीएम बोले लॉकडाउन अंतिम विकल्प

प्रदेश के सभी जिलों में जुलूस, रैली, पब्लिक गैदरिंग, सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और खेल आयोजनों पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। राज्य के सभी एयरपोर्ट्स पर RTPCR टेस्ट अनिवार्य किया गया है। वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके यात्रियों को यात्रा के 72 घंटे के भीतर की RTPCR नेगेटिव रिपोर्ट दिखाना होगा। सभी रेलवे स्टेशनों और सीमावर्ती क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की रेंडम सैंपलिंग के निर्देश दिए गए हैं। जरूरत पड़ने पर माइक्रो या मिनी कंटेनमेंट जोन बनाने संक्रमितों की पहचान के लिए ट्रेसिंग और ट्रेकिंग करने के निर्देश दिए हैं। होम आईसोलेशन में रह रहे संक्रमितों के लिए कॉल सेंटर्स सक्रिय करने के निर्देश दिए हैं, जो कि 24 घंटे सातों दिन काम करेंगे। गांवों में मितानिनों के माध्यम से संक्रमण की स्थिति पर नजर रखी जाए। मुख्यमंत्री ने अस्पतालों में बेड, दवाईयां, ऑक्सीजन उपलब्धता की डेली रिपोर्टिंग के निर्देश भी दिए हैं।