छत्तीसगढ़ सीएम भूपेश बघेल ने उठाए सवाल, SPG और खुफिया विभाग के खिलाफ कार्रवाई का मांगा हिसाब

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पंजाब के सीएम कन्नी का बचाव करते हुए आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री से पंजाब में एक दलित मुख्यमंत्री बर्दाश्त नहीं हो रहा है

Updated: Jan 07, 2022, 10:53 AM IST

छत्तीसगढ़ सीएम भूपेश बघेल ने उठाए सवाल, SPG और खुफिया विभाग के खिलाफ कार्रवाई का मांगा हिसाब

रायपुर। पीएम मोदी की सुरक्षा में कथित रूप से हुई चूक मामले में अब छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पंजाब सीएम चन्नी के बचाव में उतर आए हैं।  उन्होंने आरोप लगाया है कि सुरक्षा में चूक तो एक बहाना है पीएम मोदी वहां सिर्फ राजनीति चमकाने गए थे। भूपेश बघेल ने केंद्रीय एजेंसियों को इसके लिए जिम्मेदार करार देते हुए पूछा है कि SPG और IB के खिलाफ क्या कार्रवाई हुई?

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार को इस मामले में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने मुख्य रूप से केंद्रीय एजेंसियों को ही कठघरे में खड़ा किया। सीएम बघेल ने कहा कि, 'केंद्र सरकार की खुफिया एजेंसी, मौसम विभाग सहित प्रधानमंत्री की सुरक्षा में तैनात सभी एजेंसियों के अधिकारी इसके लिए जिम्मेदार हैं। सबसे पहले तो केंद्र सरकार यह बताए कि वो केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ क्या कार्यवाई कर रही है? SPG, IB, मौसम विभाग के खिलाफ अब तक क्या कार्यवाई हुई?'

यह भी पढ़ें: Tek Fog: वह ऐप जो बीजेपी आईटी सेल को नफरत और प्रोपेगैंडा फैलाने में करता है मदद

सीएम भूपेश बघेल ने आगे कहा कि, 'देश पहले पार्टियां बाद में, पीएम के सुरक्षा में चूक नहीं होनी चाहिए। लेकिन सवाल ये है कि क्या केंद्र सरकार के अधिकारियों को मौसम के बारे में पहले से पता नहीं था? यदि मौसम विभाग ने जानकारी नहीं दी तो क्या कार्रवाई हुई? अगर प्रधानमंत्री को सड़क मार्ग से लेकर जाना था तो पहले बताना था, पंजाब सरकार व्यवस्था करती। लेकिन अचानक एयरपोर्ट पर रुट डायवर्ट करने का रिस्क एसपीजी ने कैसे लिया? वह भी उस क्षेत्र से जहां से इंटरनेशनल बॉर्डर नजदीक है। एसपीजी और आईबी के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।'

क्या सिर्फ कुर्सियों को भाषण देने जा रहे थे: भूपेश बघेल

सीएम बघेल ने आगे कहा कि, 'प्रधानमंत्री इस घटना पर विशुद्ध रूप से राजनीति कर रहे हैं। पहले भी प्रधानमंत्री कई बार जाम में फंस चुके हैं, तब भाजपा के लोग कहते थे कि प्रधानमंत्री आम आदमी हैं। यह BJP के द्वारा तैयार की हुई स्क्रिप्ट है। जिसका मकसद चुनी हुई सरकार को बदनाम करना है। मुख्य बात तो ये है कि वहां भीड़ थी ही नहीं। क्या प्रधानमंत्री सिर्फ कुर्सियों को भाषण देने जा रहे थे? दरअसल, 100 किलोमीटर जाने के बाद उन्हें पता चला कि 700 लोग ही पहुंचे इसलिए वे वापस लौट गए।'

मोदी को दलित सीएम बर्दाश्त नहीं: भूपेश बघेल

सीएम बघेल ने यह भी कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी से पंजाब में एक दलित मुख्यमंत्री बर्दाश्त नहीं हो रहा है। सुरक्षा सिर्फ एक बहाना है, वे वहां राजनीति चमकाने गए थे। उनके सुरक्षा में 10 हजार जवान तैनात थे। जिस पद पर मोदी बैठे हैं, वहां बैठकर इस प्रकार की बात करना शोभा नहीं देता। जहां के किसान 14 महीने से सिंघु बॉर्डर पर बैठे हुए थे, जहां के 700 किसान शहीद हुए, पंजाब के गांव-गांव में प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ वातावरण है। मोदी भी यह बात जानते हैं।'