पेट्रोल-डीज़ल ने आज फिर लगाई दौड़, सिर्फ़ दो दिन का रहा शॉर्ट ब्रेक

Petrol Diesel Price Hike: डीज़ल की कीमतें आज 35 से 38 पैसे तक और पेट्रोल के दाम 34 से 35 पैसे तक बढ़े, इससे पहले शनिवार को दाम बढ़ाई गई थीं कीमतें

Updated: Feb 23, 2021, 09:22 AM IST

पेट्रोल-डीज़ल ने आज फिर लगाई दौड़, सिर्फ़ दो दिन का रहा शॉर्ट ब्रेक
Photo Courtesy: ANI

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीज़ल क़ीमतों की लगातार बारह दिनों तक चली फ़र्राटा दौड़ दो दिन के ब्रेक के बाद आज फिर से शुरू हो गई। डीज़ल की कीमत में आज 35 से 38 पैसे तक और पेट्रोल के दामों में 34 से 35 पैसे तक का इज़ाफ़ा कर दिया गया है। इस बढ़ोतरी के साथ ही दिल्ली और मुंबई में पेट्रोल की कीमत अब तक के सबसे ऊँचे स्तर पर पहुंच गई हैं। दिल्ली में पेट्रोल का दाम 90.93 रुपये और डीजल का दाम 81.32 रुपये प्रति लीटर पर जा पहुंचा है। मुंबई में आज एक लीटर पेट्रोल का दाम 97.34 रुपये है, जबकि डीजल 88.44 रुपये प्रति लीटर की दर से बिक रहा है।  

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन से मिली जानकारी के अनुसार आज कोलकाता में डीज़ल 84 रुपये 20 पैसे लीटर और पेट्रोल 91 रुपये 12 पैसे लीटर मिल रहा है। चेन्नई में आज डीज़ल का दाम 86 रुपये 31 पैसे लीटर और पेट्रोल का 92 रुपये 90 पैसे प्रति लीटर हो चुका है। मध्य प्रदेश और राजस्थान में तो पेट्रोल के दाम पहले ही सेंचुरी लगा चुके हैं। अब इन राज्यों में डीज़ल के सामने यही लक्ष्य पाना बाक़ी बचा है।

इससे पहले शनिवार को पेट्रोल डीज़ल के दाम लगातार 12वें दिन दाम बढ़ाए गए थे। शनिवार को पेट्रोल 39 पैसे और डीजल 37 पैसे प्रति लीटर और महँगा किया गया था। इस बढ़ोतरी के साथ दिल्ली में पेट्रोल 90.58 रुपए प्रति लीटर और डीजल 80.97 रुपए प्रति लीटर हो गया था। इससे पहले दिल्ली में शुक्रवार को ही पेट्रोल के दाम पहली बार 90 रुपए प्रति लीटर से ज़्यादा हुए थे।

मध्य प्रदेश और राजस्थान में तो पेट्रोल के दाम पहले ही सौ रुपये का आंकड़ा पार कर चुके हैं। शनिवार को हुई बढ़ोतरी के बाद ही मध्य प्रदेश के अनूपपुर में पेट्रोल का दाम 101 रुपये से ज्यादा हो गया था।  लगातार बारह दिनों तक क़ीमतें बढ़ाने के बाद रविवार और सोमवार को पेट्रोल-डीज़ल के दाम बढ़ाए नहीं गए थे। लेकिन ये राहत महज दो दिन की चाँदनी साबित हुई, जिसके बाद अब फिर बढ़ती क़ीमतों की अंधेरी रात सामने है।

पेट्रोल और डीजल की हर रोज़ की कीमतें सुबह छह बजे घोषित होती हैं। ये दरें उसी वक़्त से लागू हो जाती हैं। पेट्रोल और डीज़ल के दाम में केंद्र सरकार द्वारा वसूली जाने वाली एक्साइज ड्यूटी और राज्य सरकारों के वैल्यू ऐडेड टैक्स (VAT) के अलावा डीलर कमीशन और कुछ अन्य चार्जेज़ शामिल होते हैं।

क्यों बढ़ रहे हैं पेट्रोल-डीज़ल के दाम

पेट्रोल डीज़ल के दाम बढ़ने के लिए हमेशा इंटरनेशनल मार्केट में कच्चा तेल महंगा होने की दलील दी जाती है। लेकिन यह पूरी तरह सही नहीं है। विश्व बाजार में क्रूड ऑयल के दाम अभी 60 डॉलर प्रति बैरल के आसपास हैं। लेकिन घरेलू बाज़ार में पेट्रोल - डीज़ल के जो दाम वसूले जा रहे हैं, वो उस वक्त भी नहीं थे, जब अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चा तेल सौ डॉलर प्रति बैरल से भी महंगा बिक रहा था। ऐसा इसलिए है क्योंकि मोदी सरकार के राज में पेट्रोल-डीज़ल पर वसूले जाने वाले एक्साइज़ को कई गुना बढ़ा दिया गया है।