मध्यप्रदेश में शूट हुई फिल्म शेरनी रिलीज, 240 देशों में देखी जा रही प्रदेश के जंगलों की खूबसूरती

फिल्म शेरनी में नजर आए मध्यप्रदेश के कान्हा नेशनल पार्क, रायसेन और बालाघाट के जंगलों के नजारे, विद्या ने कहा मप्र के जंगलों की खूबसूरती है बेमिसाल, मप्र टूरिज्म बोर्ड चला रहा फिल्म का खास प्रमोशन

Updated: Jun 18, 2021, 01:55 PM IST

मध्यप्रदेश में शूट हुई फिल्म शेरनी रिलीज, 240 देशों में देखी जा रही प्रदेश के जंगलों की खूबसूरती
Photo Courtesy: twitter

बॉलीवुड की वर्सेटाइल एक्ट्रेस वि‍द्या बालन की मोस्ट अवेटेड फ‍िल्‍म शेरनी दुनियाभर में रिलीज हो गई है। फिल्म को अमेजान प्राइम पर 240 देशों में रिलीज किया गया है। इस फिल्म में विद्या एक फारेस्ट ऑफीसर के रोल में नजर आ रही हैं। फिल्म जितनी बेहतरीन बनी है, उतनी ही बेहतरीन फिल्म की लोकेशन भी है, इस फिल्म का ज्यादातर हिस्सा मध्य प्रदेश में फिल्माया गया है। कान्हा नेशनल पार्क, रायसेन और बालाघाट के घने जंगलों में फिल्म की शूटिंग हुई है। फिल्म में दिखे जंगलों में कान्हा नेशनल पार्क, रायसेन के भूत पलासी और बालाघाट के आसपास के रियल जंगल शामिल हैं।

 फारेस्ट आफीसर बनी विद्या बालन के साथ-साथ मध्यप्रदेश के जंगलों की खूबसूरती भी दुनिया भर के लोगों को एक बार फिर लुभा रही है। फिल्म OTT प्लेटफॉर्म पर 240 देशों में रिलीज हुई है। अमेजन की इस फिल्म शेरनी का डायरेक्शन अवॉर्ड विनिंग फिल्म डायरेक्टर अमित मसुरकर ने किया है। फारेस्ट आफीसर बनी विद्या की इस फिल्म को उनके करियर के एक और माइल स्टोन फिल्म माना जा रहा है।

फ‍िल्‍म शेरनी में एक से बढ़कर एक डायलॉग हैं, जो की इसकी स्टोरी को आगे बढ़ाते हैं, 'अगर विकास के साथ जीना है तो पर्यावरण को बचा नहीं सकते और अगर पर्यावरण को बचाने जाओ तो विकास बेचारा उदास हो जाता है।’

फिल्म में बताया गया है कि विकास के नाम पर पर्यावरण नष्‍ट किया जा रहा है, उसका नुकसान इंसानों को झेलना पड़ता है। शेरनी में विद्या बालन पर्यावरण बचाने की एक मुहिम छेड़ती नजर आई हैं।

फिल्म में विद्या बालन के साथ नीरज काबी, मुकुल चड्ढा, शरत सक्‍सेना, बिजेंद्र काला, ईला अरुण भी खास रोल में दिखे हैं।

मध्यप्रदेश टूरिज्म की ओर से सोशल मीडिया और डिजिटल मीडिया में हैशटैग #MPKiSherni के साथ फिल्म का प्रमोशन किया जा रहा है। फिल्म में मध्यप्रदेश के जंगलों की खूबसूरती चार चांद लगा रही है। फिल्म की मार्केटिंग में मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड साझेदार की भूमिका में है। मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विभाग के प्रमुख सचिव शिव शेखर शुक्ला का कहना है कि ‘इस फिल्म में मध्यप्रदेश का वास्तविक और मनोहारी जंगलों, कान्हा नेशनल पार्क, रायसेन के भूत पलासी और बालाघाट के आसपास के जंगलों का नजारा देखने को मिलेगा’। प्रमुख सचिव का कहना है कि शेरनी फिल्म की कहानी सुनने पर लगा था कि यह एक बेहतर मौका अवसर है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के जंगलों की सुंदरता और विरासत को दुनिया के सामने लाने का यह एक अच्छा अवसर है।

 

फिल्म के माध्यम से ना केवल मध्यप्रदेश की सुंदरता दुनिया के सामने आएगी, बल्कि वेलनेस टूरिज्म, आदिवासी कला और संस्कृति, हस्तशिल्प और मध्यप्रदेश की विभिन्न अनूठी पहलों की ओर भी ध्यान आकर्षित करेगी। मध्यप्रदेश के अद्भुत जंगलों और फिल्मकारों द्वारा पेश किए जाने वाले अनुभवों को देखने का मौका दुनिया को पहली बार मिलेगा।

इस फिल्म की शूटिंग के अनुभव के बारे में विद्या बालन का कहना है कि मध्यप्रदेश के जंगलों में वास्तविक और लाइव स्थानों पर फिल्म की शूटिंग करना उनके लिए खास अनुभव रहा। एमपी की प्रॉकृतिक सुंदरता और विरासत ने फिल्म की कहानी को एकदम सही पृष्ठभूमि प्रदान की है। विद्या ने कहा है कि  मध्यप्रदेश में शूटिंग करने में उन्हें बहुत मजा आया और यहां के लोगों के मिलनसार व्यवहार ने इसे और भी मेमोरेबल बना दिया।