रूस के स्कूल में हुई गोलीबारी में 13 की मौत 20 घायल, हमलावर ने खुद को भी उड़ाया

उदमुर्तिया क्षेत्र की राजधानी इज़ेव्स्क में एक अज्ञात व्यक्ति ने स्कूल में प्रवेश कर वहां गोलीबारी शुरू कर दी, इस दौरान 5 स्टूडेंट्स, 2 शिक्षक और गार्ड्स की मौत हो गई

Updated: Sep 26, 2022, 07:13 PM IST

रूस के स्कूल में हुई गोलीबारी में 13 की मौत 20 घायल, हमलावर ने खुद को भी उड़ाया

मॉस्को। यूक्रेन-रूस युद्ध के दौरान रूस के इज़ेव्स्क में एक बड़ी घटना घटी है, जहां एक बंदूकधारी ने पांच बच्चों समेत 13 लोगों की हत्या कर दी है। न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार रूसी शहर इज़ेव्स्क में एक बंदूकधारी ने स्कूल में अंधाधुंध फायरिंग कर 13 लोगों को मौत के घाट उतार दिया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक उदमुर्तिया क्षेत्र की राजधानी इज़ेव्स्क में एक अज्ञात व्यक्ति ने स्कूल में प्रवेश कर वहां गोलीबारी शुरू कर दी। गोली लगने से 5 स्टूडेंट्स, 2 शिक्षक और गार्ड्स की मौत हो गई। साथ ही करीब 20 लोग घायल हो गए। हैरानी की बात ये है कि हमलावर ने भी खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। उसका शव बरामद कर लिया गया है।

रूस के आंतरिक मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि बंदूकधारी ने हमला करने के बाद खुद को भी मार लिया। मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। संभावित आतंकी हमले की आशंका को अभी तक जांच एजेंसी ने खारिज नहीं किया है। इलाके के गवर्नर एलेक्ज़ेंडर ने पुष्टि की है कि हताहतों में कई बच्चे भी शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: गहलोत समर्थकों का अड़ियल रुख, पर्यवेक्षकों से मिलने से इनकार, दिल्ली लौट रहे माकन-खड़गे

घायलों को उपचार के लिए पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां कई लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। ऐसे में मृतकों की संख्या बढ़ने की भी आशंका है। माना जा रहा है कि इस हिंसा की वजह घरेलू संघर्ष हो सकता है। दरअसल, रूस में इन दिनों सत्ता के खिलाफ विरोध प्रदर्शन तेज हैं। यूक्रेन युद्ध के बीच जब से पुतिन ने लामबंदी की घोषणा की है तब से बड़ी संख्या में नागरिक देश छोड़कर जा रहे हैं। 

रूस में जगह जगह विरोध प्रदर्शन भी हो रहे हैं। लोगों का कहना है कि पुतिन उन्हें बेवजह युद्ध में झोंकना चाहते हैं। इसलिए अब वे देश छोड़कर जाना चाहते हैं। बता दें कि पिछले साल भी पूर्वी मॉस्को में ऐसी ही घटना हुई थी। यहां 19 साल के एक शख्स ने फायरिंग कर दी थी जिसमें 9 लोगों की मौत हुई थी। मरने वालों में 7 बच्चे शामिल थे।