France: फ्रांस में हमलावर ने महिला का सिर काटा, तीन लोगों की हत्या

France Beheading: एक महिला का सर काटा, दो लोगों की चाकुओं से गोदकर हत्या, फ्रांस और मुस्लिम देशों में तनाव के बीच हुआ हमला, मेयर को आतंकी हमले का शक

Updated: Oct 29, 2020, 06:58 PM IST

France: फ्रांस में हमलावर ने महिला का सिर काटा, तीन लोगों की हत्या
Photo Courtesy: NY Times

नीस, फ्रांस। आतंकी हमले के खतरे के बीच फ्रांस के नीस शहर में एक हमलावर ने चाकू से हमला करके तीन लोगों को मार डाला। जिस जगह पर यह वारदात हुई, वह सेंट केथेड्रल चर्च के पास मौजूद है। हमले में एक महिला का सर काट दिया गया। शहर के मेयर ने शक जाहिर किया है कि ये आतंकी हमला हो सकता है।  उनका कहना है कि हमलावर को हिरासत में ले लिया गया है। अभी तक हमले की पुख्ता वजह का पता नहीं चल पाया है। हालांकि, इसे हाल फिलहाल में फ्रांस में इस्लाम धर्म पर वहां के राष्ट्रपति की टिप्पणी और पैगंबर मोहम्मद के कार्टून दिखाने और आगे भी दिखाते रहने के अधिकार की बात से जोड़कर देखा जा रहा है। 

यह हमला ऐसे समय में हुआ है जब फ्रांस और मुस्लिम देशों के बीच तनाव बना हुआ है। पेरिस में आतंकी हमले में एक शिक्षक की मौत के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा था कि इस्लाम पूरी दुनिया में संकट से गुजर रहा है और वे फ्रांस में इस्लामिक कट्टरता को खत्म करने के लिए कदम उठाएंगे। उन्होंने यह भी कहा था वे इस्लाम को फ्रांस के मूल्यों के अनुसार भी ढालेंगे और फ्रांस कभी भी कार्टून बनाना नहीं छोड़ेगा। उनके इस बयान के बाद मुस्लिम देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने उनके ऊपर इस्लाम को लेकर नफरत फैलाने का आरोप लगाया।

तुर्की के राष्ट्रपति ने दो कदम आगे जाते हुए इमैनुएल मैक्रां को मानसिक उपचार कराने की सलाह दे डाली। दूसरी तरफ पाकिस्तान और ईरान के राष्ट्राध्यक्षों ने दुनियाभर के मुसलमानों को फ्रांस के खिलाफ एकजुट होने के लिए कहा। अरब देशों ने भी फ्रांस की निंदा की। इन देशों में फ्रांस के खिलाफ बहिष्कार की मुहिम भी छेड़ दी गई। इस बीच फ्रांस में आतंकी हमलों की धमिकयां भी मिलती रहीं।

इससे पहले 16 अक्टूबर को पेरिस में एक आतंकी हमले में एक छात्र ने अपने शिक्षक की बर्बर तरीके से हत्या कर दी थी। सैमुएल पैटी नाम के शिक्षक अभिव्यक्ति की आजादी पर चर्चा के लिए पैगंबर मोहम्मद के कार्टून क्लास में दिखा रहे थे। हत्या करने वाले छात्र ने बाद में कहा कि वह पैगंबर मोहम्मद के अपमान का बदला लेना चाहता था।