जॉनसन एंड जॉनसन दुनियाभर में बंद करेगी बेबी टेलकम पाउडर की बिक्री, कैंसर से जुड़े केस बढ़ने के बाद लिया फैसला

माना जाता जाता है कि बेबी पाउडर के इस्तेमाल से कैंसर होने का खतरा रहता है, हालांकि कंपनी ने हमेशा इसे सुरक्षित बताया है, कंपनी के खिलाफ हजारों की संख्या में मुकदमे भी दर्ज हुए हैं

Updated: Aug 12, 2022, 06:33 PM IST

जॉनसन एंड जॉनसन दुनियाभर में बंद करेगी बेबी टेलकम पाउडर की बिक्री, कैंसर से जुड़े केस बढ़ने के बाद लिया फैसला
Photo Courtesy: Skynews

विश्व की मशहूर बेबी पाउडर निर्माता कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन दुनिया भर में अपने प्रोडक्ट की बिक्री बंद करने वाली है। कंपनी ने ऐलान किया है कि साल 2023 में बेबी टेलकम पाउडर की बिक्री बंद कर दी जाएगी। कैंसर से जुड़े हजारों मुकदमों के बाद कंपनी ने ये निर्णय लिया है। अब कंपनी टैल्क बेस्ड पाउडर की जगह कॉर्न स्टार्च बेस्ड पाउडर लाएगी।

दरअसल, दुनियाभर में दावे किए जाते रहे हैं कि इस बेबी पाउडर के इस्तेमाल से कैंसर होने का खतरा रहता है। कैंसर की आशंका वाली रिपोर्ट सामने आने के बाद प्रोडक्ट की बिक्री में भी भारी गिरावट दर्ज की गई थी। हालांकि कंपनी हमेशा इस पाउडर को सेफ बताती रही है।

यह भी पढ़ें: कश्मीर में फिर टारगेट किलिंग, बांदीपोरा में बिहार से आए प्रवासी मजदूर की गोली मारकर हत्या

जॉनसन एंड जॉनसन अपने टेलकम पाउडर प्रोडक्ट की वजह से कई सालों से कानूनी पचड़ों में फंसी हुई है। कंपनी के खिलाफ केवल अमेरिका में ही 40 हजार 300 कानूनी मुकदमे चल रहे हैं। साल 2020 में ही जॉनसन एंड जॉनसन ने अमेरिका और कनाडा में अपने टैल्क बेबी पाउडर की बिक्री बंद करने का ऐलान किया था।

कंपनी ने तब कहा था कि कानूनी चुनौतियों के बीच प्रोडक्ट से जुड़ी की भ्रामक जानकारी के कारण डिमांड काफी कम हो गई है। गुरुवार को कंपनी ने एक बयान में कहा कि, हमने अपने पोर्टफोलियो का असेसमेंट करने के बाद सभी बेबी पाउडर प्रोडक्ट को टैल्कम पाउडर के बजाय कॉर्नस्टार्च का इस्तेमाल करके बनाने का कॉमर्शियल डिसीजन लिया है।' फर्म ने कहा कि कॉर्नस्टार्च आधारित बेबी पाउडर पहले से ही दुनिया के कई देशों में बेचा जा रहा है।

यह भी पढ़ें: अरब सागर में पलटा भारतीय पोत, इमरजेंसी कॉल पर पहुंची पाकिस्तानी नौसेना, चालक दल के 9 सदस्यों को बचाया

बता दें कि टैल्क एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला मिनरल है, जो पृथ्वी से निकाला जाता है। जहां से टैल्क को माइन करके निकाला जाता है, वहीं से एस्बेस्टस भी निकलता है। एस्बेस्टस (अभ्रक) भी एक मिनरल है, हालांकि, इसमें कैंसर कारक तत्व पाए जाते हैं। जब टैल्क की माइनिंग की जाती है तो उसमें एस्बेस्टस के भी मिक्स होने का खतरा बना रहता है।