अवैध रूप से बॉर्डर पार करने के जुर्म में पकड़ाए युवक को चार साल बाद पाकिस्तान ने किया रिहा, पैदल स्विट्जरलैंड जाना चाहता था युवक

तेलंगाना के रहने वाले प्रशांत को पाकिस्तानी फौज ने अप्रैल 2017 में पकड़ा था, प्रशांत की सज़ा पूरी होने के बाद पाकिस्तान ने प्रशांत को 31 मई को भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया

Updated: Jun 02, 2021, 11:32 AM IST

अवैध रूप से बॉर्डर पार करने के जुर्म में पकड़ाए युवक को चार साल बाद पाकिस्तान ने किया रिहा,  पैदल स्विट्जरलैंड जाना चाहता था युवक
Photo Courtesy: Live Hindustan

नई दिल्ली। अवैध रूप से बॉर्डर पार करने के जुर्म में पाकिस्तान की हिरासत में आए भारतीय युवक प्रशांत को चार साल बाद पाकिस्तान ने रिहा कर दिया। तेलंगाना के रहने वाले प्रशांत को अप्रैल 2017 में पाकिस्तानी फौज ने पकड़ा था। अवैध रूप से बॉर्डर पार करने के जुर्म की सज़ा काटने के बाद पाकिस्तान ने युवक को रिहा कर दिया। 31 मई को पाकिस्तान ने युवक को भारतीय अधिकारियों के हवाले कर दिया। 

तेलंगाना का रहना वाला प्रशांत अप्रैल 2017 में अचानक हैदराबाद से गायब हो गया था। प्रशांत की गुमशुदगी की रिपोर्ट जब परिजनों ने पुलिस से की, तब पता चला कि युवक पाकिस्तानी हिरासत में है। इसके बाद से ही भारत सरकार युवक को छुड़ाने के प्रयास कर रही थी। अवैध रूप से सरहद पार करने के जुर्म में सज़ा काटने के बाद प्रशांत को छोड़ दिया गया। 

यह भी पढ़ें : झोलाछाप डॉक्टरों को मिले कोरोना वॉरियर्स का दर्जा, बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी ने की सीएम से मांग

पैदल स्विट्जरलैंड जाना चाहता था प्रशांत 

युवक अवैध रूप से पाकिस्तानी सरजमीं में दाखिल क्यों हुआ, इसका कारण भी बेहद अजीब है। प्रशांत पेशे से एक आईटी प्रोफेशनल है। प्रशांत पैदल ही स्विट्जरलैंड जाना चाहता था। अपनी इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिए एक दिन वो अचानक ही राजस्थान के बीकानेर जाने वाली ट्रेन में बैठ गया। इसके बाद वो सीधे पाकिस्तान में सीमा दाखिल हो गया। सीमा में दाखिल होने की थोड़ी दूरी पर पाकिस्तानी फौज ने पकड़ लिया।