RTI से मिली 9 हजार पन्ने की जानकारी, बैलगाड़ी लेकर पहुंचा आवेदक, पन्ने गिनने के लिए चार लोग भी साथ गए

9 हजार पन्ने की जानकारी के बदले आवेदक से वसूले 25 हजार रुपए, पैसे की व्यवस्था न होने पर एक्टिविस्ट ने कर्ज लेकर पैसे जमा किए, फिर बैल गाड़ी लेकर नगर परिषद कार्यालय पहुंचा।

Updated: Nov 04, 2022, 06:31 PM IST

RTI से मिली 9 हजार पन्ने की जानकारी, बैलगाड़ी लेकर पहुंचा आवेदक, पन्ने गिनने के लिए चार लोग भी साथ गए

शिवपुरी। मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले से अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां एक आरटीआई एक्टिविस्ट बैंड बाजा और बैलगाड़ी लेकर RTI के तहत मिली 9 हजार पेज की जानकारी लेने पहुंचा। इतना ही नहीं पन्ने गिनने के लिए चार लोग भी साथ गए थे। फोटोकॉपी के कुल 25 हजार रुपए देकर उसने जानकारी हासिल की।

दरअसल, बैराड़ के आरटीआई एक्टिविस्ट माखन धाकड़ ने नगर परिषद कार्यालय से पीएम आवास से जुड़ी जानकारी मांगी थी। लेकिन शुल्क जमा कराने के बाद भी जानकारी नहीं दी गई। वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत करने के बाद करीब 9 हजार पेज की जानकारी के लिए उससे करीब 25 हजार रुपए वसूले गए। 

इतने पैसे की व्यवस्था न होने पर एक्टिविस्ट ने कर्ज लेकर पैसे जमा किए। इतने संघर्ष के बाद जब जानकारी मिली तो माखन नगर परिषद कार्यालय बैलगाड़ी से पहुंचे। पेज गिनने के लिए अपने चार मित्रों को भी साथ ले गए, जिन्हें गिनने में दो घण्टे लग गए। फिर कागजों को बैलगाड़ी में रखकर वे ढोल नगाड़ों के साथ रवाना हुए। बाजार में इस अजीब तरह के जश्न की चर्चा हो रही है।

आरटीआई एक्टिविस्ट माखन धाकड़ ने बताया कि करीब 9 हजार पेज की जानकारी के लिए उनसे 25 हजार रुपए शुल्क वसूले गए। इतने पैसे की व्यवस्था न होने पर उन्होंने कर्ज लेकर पैसे जमा किए। तब जाकर जानकारी मिली।