तनाव में आकर डॉक्टर ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा मैं अपनी लाइफ को बैलेंस नहीं कर पा रहा हूं

आयुर्वेदिक अस्पताल के एक रिसर्चर डॉक्टर ने लगाई फांसी, पत्नी से तलाक और मां की मौत के बाद से था तनाव में, फांसी पर लटककर दी जान

Updated: Dec 02, 2021, 07:03 PM IST

तनाव में आकर डॉक्टर ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा मैं अपनी लाइफ को बैलेंस नहीं कर पा रहा हूं
Photo Courtesy: Ndtv

भोपाल। शहर के पंडित खुशीलाल आयुर्वेदिक अस्पताल के एक रिसर्चर डॉक्टर ने आत्महत्या कर ली है। 36 वर्षीय डॉक्टर संजय गुप्ता का शव  उनके किराए के मकान में लटका हुआ मिला है। डॉक्टर ने मरने से पहले एक बड़ा सा सुसाइड नोट छोड़ा है। जिसमें उसने तनाव में आकर जान देने की बात लिखी है, उसने लिखा है कि बस मां अब और बर्दाश्त नहीं होता। मैं अपनी लाइफ को बैलेंस नहीं कर पा रहा हूं। उसने अपनी इस हरकत के लिए मां से माफी मांगी है। उसने लिखा है कि उसकी मौत का जिम्मेदार वह खुद है, किसी और को इसके लिए दोषी नहीं ठहराया जाए। वहीं उसने कई बार मां को सॉरी कहते हुए मिस यू मां लिखा है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार संजय गुप्ता रीवा के मऊगंज का निवासी था, वह एमडी के बाद से ही पंडित खुशीलाल आयुर्वेदिक कालेज से आयुर्वेद में रिसर्च कर रहा था। उसका तलाक हो चुका था। वहीं इन सब के बीच उसकी मां की भी मौत हो गई थी, तभी से वह टेंशन में रहता था।

फांसी पर लटके डाक्टर के मुंह पर पट्‌टी और पैरों में रस्सी में बंधी थी। बुधवार शाम जब उसका रूममेट दफ्तर से लौटा तो उसने दरवाजा खटखटाया, लेकिन किसी ने दरवाजा नहीं खोला, कई बार फोन भी किया जब किसी तरह की कोई हलचल नहीं समझ आई तो उसने पड़ोसियों की मदद से गेट तोड़ा और किसी तरह अंदर प्रवेश किया। फांसी पर लटके दोस्त का शव देखकर उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। उसने पुलिस को खबर की और दोस्त को अस्पताल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिवार वालों को खबर कर दी गई है। उनके आने पर शव को पोस्टमार्टम के बाद पिता को सौप दिया जाएगा। मामले की जांच जारी है।